Breaking News
Home / Breaking News / डोईवाला: विशेषज्ञ डाक्टरों की जगह प्रशिक्षु डाक्टर कर रहे इलाज

डोईवाला: विशेषज्ञ डाक्टरों की जगह प्रशिक्षु डाक्टर कर रहे इलाज

स्वास्थ सेवाएं बेहालए मरीजों के मर्ज का नहीं मिल रहा इलाज

डोईवाला। सामुदायिक स्वास्थ केंद्र डोईवाला में मरीजों को बेहतर इलाज नहीं मिल रहा है। डोईवाला संयुक्त संघर्ष मोर्चे से जुड़े कार्यकर्ताओं ने जनसमस्याओं को लेकर प्रदर्शन करते हुए कहा कि डबल इंजन की सरकार ने सामुदायिक स्वास्थ केंद्र डोईवाला को लेकर हिमालयन विश्वविद्यालय जौलीग्रांट के साथ एमओयू साइन करते समय डोईवाला की जनता से वादा किया था कि डोईवाला के सरकारी अस्पताल को उच्चीकृत कर अस्पताल में सुपर स्पेस्लिस्ट डाक्टरों द्वारा सेवाएं दी जाएंगी। लेकिन सरकारी अस्पताल में निजी अस्पताल का कोई भी विशेषज्ञ डाक्टर सेवाएं नहीं दे रहा है। निजी अस्पताल के हर रोज नए प्रशिक्षु डाक्टर अस्पताल में सेवाएं दे रहे हैं। अस्पताल में बेड खाली पड़े हैं। और मरीजों को जौलीग्रांट रेफर किया जा रहा है। संघर्ष मोर्चे के जिलाध्यक्ष फुरकान अहमद कुरैशी ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का आदर्श विधानसभा का वादा अभी तक जुमला साबित हुआ है।

कहा कि पिछली सरकार की तरह ये सरकार भी डोईवाला में शिलान्यासों तक सीमित होकर रह गई है। डोईवाला में रेलवे रिर्जेवेशन काउंटर ठप पड़ा है। मुख्य ट्रेनें स्टेशन पर रूक नहीं रही हैं। प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खुद बीमार है। और सीएम खुद डोईवाला से पलायन कर गए हैं। डोईवाला में एक कथित काले चश्में वाले बाबू को कमान सौंप रखी है। जो समस्याएं सुनने का दावा तो करता है। लेकिन कभी ये नहीं बताता कि उनमें से कितनी समस्याएं हल हुई हैं। जौलीग्रांट के 50 वर्ष पुराने डाकघर को उच्चीकरण के नाम पर एक निजी अस्पताल की चारदिवारी में कैद कर दिया गया है। राष्ट्रपति को ज्ञापन भी भेजा। मौके पर जाहिद अंजुमए सुरेंद्र सिंह राणाए रामेश्वर पांडेए मधुलिका पाल आदि उपस्थित रहे।

About saket aggarwal

Check Also

अस्पताल की छत से कूदी महिला, हालत गंभीर

इलाज के बाद भी मां नहीं बनने पर थी परेशान देहरादून। दून स्थित सीएमआई अस्पताल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *