Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / केजरीवाल नहीं, सिसोदिया आएंगे दून!

केजरीवाल नहीं, सिसोदिया आएंगे दून!

मैडम रजनी रावत के प्रस्ताव को अभी हरी झंडी नहीं
हाईकमान तक ठीक नहीं जा रहा फीडबैक
‘आप’ का मनमुटाव भी बना है बड़ी बाधा
नाराज साथियों को साधने में अभी नाकाम पार्टी
देहरादून। आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उत्तराखंड निकाय चुनाव की जंग में फिलहाल, प्रचार से दूर ही रहेंगे। दून में मेयर सीट पर पार्टी प्रत्याशी मैडम रजनी रावत के लिए प्रचार करने की हामी नहीं भरी है। हालांकि, मैडम खेमा उन्हें दून लाने के लिए प्रयासरत है और इस बाबत दावे भी कर चुका है। मगर, दिल्ली के पार्टी सूत्रों ऐसी किसी भी संभावना से फिलहाल इनकार कर रहे हैं। केजरीवाल की बजाय दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के दून में प्रचार अभियान का हिस्सा बनने के संकेत हैं। पता चला है कि मनीष सिसोदिया का दून में प्रचार कार्यक्रम भी लगभग फाइनल हो चुका है।
आपको बता दें कि दून नगर निगम में मेयर सीट पर मैडम रजनी रावत को प्रत्याशी बनाकर ‘आप’ बड़ा उलटफेर होने की उम्मीद बांधे हुए है। भविष्य से जुड़ी निकाय चुनाव की इस जंग में पार्टी उत्तराखंड में तीसरा विकल्प जनता के सामने रखने की कोशिश में है। पार्टी ने चुनावी जंग में पूरी ताकत झोंक रखी है। बावजूद इसके, ‘आप’ का चुनावी अभियान परदे के पीछे चल रहे मन-मुटाव, नाराजगी और तालमेल की कमी का शिकार भी हो रखा है। मैडम रजनी रावत की एंट्री के साथ ही दून में ‘आप’ की एकजुटता, बेहतर तालमेल और कर्मठता भी प्रभावित है। साथ ही मैडम रजनी रावत और पार्टी में चुनावी अभियान की ट्यूनिंग भी सुर में नहीं है। मैडम का अपना खेमा (पुरानी टीम) अपने हिसाब से चलने में परहेज नहीं कर रहा है। ‘आप’ के कुछ पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी इस स्थिति से परेशान बताए जा रहे हैं।


इस बीच, मैडम रजनी रावत कैंप ने हाल में चुनाव प्रचार के लिए पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल के जल्द दून आने का दावा किया है। इसे लेकर दिल्ली मंे मैडम की अरविंद केजरीवाल से हुई मुलाकात का फोटो भी जारी किया गया। हालांकि, पार्टी की ओर से इस मुद्दे पर कोई अधिकृत जानकारी मुहैया नहीं कराई गई। अब पार्टी के भरोसेमंद सूत्रों का दावा है कि मैडम रजनी रावत के प्रचार के लिए दिल्ली के सीएम का दून आकर मोर्चा संभालने का कोई भी कार्यक्रम प्रस्तावित नहीं है। अरविदं केजरीवाल ने दून में निकाय चुनाव कार्यक्रम को लेकर हामी नहीं भरी है।
सूत्रांे का कहना है कि निकाय स्तर के चुनाव में पार्टी सुप्रीमो को उतारने का रिस्क नहीं उठाया जा सकता है। उत्तराखंड खासकर देहरादून से लगातार फीडबैक हाईकमान तक पहुंच रहा है। दून में मेयर की जंग के रोचक हो जाने से तो हाईकमान वाकिफ है, लेकिन अभी पार्टी प्रत्याशी की जीत को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त नहीं है। पार्टी के कई भीतरी समीकरणों और बाहर के कुछ चुनावी समीकरणों को लेकर हाईकमान आशंकित भी है। ऐसे में केजरीवाल का दून में आकर चुनावी मोर्चा संभालना सीधे उनकी प्रतिष्ठा से जुड़ जाएगा। इस स्थिति को भांपते हुए अरविंद केजरीवाल पार्टी प्रत्याशी मैडम रजनी रावत के प्रचार के लिए दून आने से फिलहाल, परहेज कर रहे हैं। हालांकि, मैडम खेमा केजरीवाल को दून लाने के लिए पूरा जोर लगाए हुए है।
पार्टी के दिल्ली से जुड़े सूत्रांे ने बताया कि प्रचार के लिए ‘आप’ के कद्दावर नेता मनीष सिसोदिया के दून का आने का कार्यक्रम लगभग तय हो गया है। मनीष सिसोदिया 15 नवंबर को दून में मैडम रजनी रावत के लिए वोट मांग सकते हैं। इसके अलावा दिल्ली की केजरीवाल सरकार के कुछ अन्य मंत्री, विधायक व नेताओं को पार्टी चुनाव प्रचार के लिए उत्तराखंड भेज सकती है। उत्तराखंड में ‘आप’ के प्रदेश मीडिया प्रभारी राकेश काला ने संपर्क करने पर बताया कि पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल को निकाय चुनाव में प्रचार के लिए लाना का प्रयास है। पार्टी प्रत्याशी मैडम रजनी रावत की इस बाबत उनसे मुलाकात हुई है और वों इसे लेकर लगातार प्रयासरत भी हैं।

About madan lakhera

Check Also

कांग्रेस का 23 सूत्रीय ‘विजन डाॅक्यूमेंट’ जारी

पार्टी ने दिलाया निकायों के सुनियोजित विकास का भरोसा नागरिक सुविधाओं पर की विस्तार से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *