Home / Uttatakhand Districts / Bageshwar / बागेश्वर : आपदा मोचन निधि के मानकों का करें पालन

बागेश्वर : आपदा मोचन निधि के मानकों का करें पालन

बागेश्वर। प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान तथा प्रभावितों को तत्काल सहायता उपलब्ध कराने के लिए राज्य आपदा मोचन निधि के मानक निर्धारित किये गये हैं। जिसके सफल क्रियान्वयन के लिए अपर जिलाधिकारी राहुल कुमार गोयल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में सभी उपजिलाधिकारी एवं संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की।
बैठक में अपर जिलाधिकारी ने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान के संबंध में आपदा प्रबन्धन विभाग उत्तराखण्ड द्वारा राज्य आपदा मोचन निधि के मानकों का निर्धारण किया गया है। जिसमें मानव हानि, पशु हानि, परिसंपत्तियों को नुकसान एवं कृषि भूमि, सरकारी योजनायें आदि क्षतिग्रस्त होने पर तत्काल सहायता पहुंचाने के लिए अलग-अलग मानक निर्धारित किये गये हैं। जिसमें आपदा के कारण किसी व्यक्ति की मृत्यु होने पर तत्काल मृत व्यक्ति के परिजनों को चार लाख की सहायता राशि निर्धारित की गयी है तथा हाथ, पैर एवं आंखों की क्षति होने पर 69100 प्रति व्यक्ति निर्धारित किया गया है। दो हेक्टेयर तक कृषि भूमि वाले किसानों को क्षति होने पर 12200 प्रति हेक्टेयर की दर से प्रत्येक मद के लिए तथा भू-स्खलन, हिम-स्खलन या नदी के मार्ग बदलने के कारण अधिकांश भूमि को हुई क्षति के लिए 37500 प्रति हेक्टेयर यह सहायता केवल राजस्व अभिलेखों के अनुसार विधिक रूप से निजी स्वामित्व वाली भूमि की क्षति की स्थिति में केवल छोटे एवं सीमान्त किसानों को दी जाती है। ऐसे ही अन्य नुकसान के लिए धनराशि निर्धारित की गयी है। बैठक अपर जिलाधिकारी राहुल कुमार गोयल ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि राज्य आपदा मोचन निधि के मानकों के अनुसार आपदा से क्षतिग्रस्त होने वाली योजनाओं के प्रस्ताव एवं आंगणन तैयार करें। संबंधित योजना पर व्यय होने वाली धनराशि का आकलन एवं उसके फोटोग्राफ सहित उपलब्ध करायें। ताकि योजना का सत्यापन करने में कोई परेशानी न हो तथा योजना व्यय होने वाली धनराशि को तत्काल स्वीकृत किया जा सके।
बैठक में उप जिलाधिकारी बागेश्वर राकेश चन्द्र तिवारी, कपकोट प्रमोद कुमार, कांडा रवीन्द्र सिंह, गरुड़ जयवर्धन शर्मा, वरिष्ठ कोषाधिकारी नीतू भंडारी, आपदा प्रबन्धन अधिकारी शिखा सुयाल, ईई लोनिवि कपकोट संजय पाण्डेय, पीएमजीएसवाई राजेन्द्र प्रसाद सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी: पुलिस कर्मियों के सामने ‘बेघर’  होने का संकट

कोतवाली में बैरक खाली करने के फरमान से मची खलबली सलीम खान हल्द्वानी। जहां एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *