Home / Uncategorized / अल्मोड़ा: बजट के अभाव में अधर में लटक गया है बहुउद्देशीय बस अड्डे का निर्माण

अल्मोड़ा: बजट के अभाव में अधर में लटक गया है बहुउद्देशीय बस अड्डे का निर्माण

17 करोड़ का प्रोजेक्ट मिले सिर्फ 3.78 करोड़

दिसंबर 2016 से नहीं जारी हुई किश्त

दीपक मनराल , अल्मोड़ा। अल्मोड़ा मे बन रहे बहुउद्देशीय (अंतरराज्यीय) बस अड्डे का निमार्ण कार्य सरकार की अनदेखी के चलते बजट के आभाव मे बंद पड़ा है। 17 करोड़ के निर्धारित बजट के सापेक्ष में इसके लिए अब तक केवल 3.78 करोड़ रूपया ही अवमुक्त हो पाया है। जिससे संबंधित निर्माण ऐजेंसी ने काम रोक दिया है।

उल्लेखनीय है कि लोअर माल रोड के कर्नाटकखोला में पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने पहाड़ों मेें यातायात को सुगम बनाने के उद्देश्य से करीब 17 करोड़ की लागत से इस बहुउद्देशीय बस अड्डे की नींव रखी थी। जिसके तहत करीब 3 करोड़ का बजट अवमुक्त किया गया था, लेकीन भाजपा सरकार के आते ही इस बस अड्डे का निमार्ण कार्य रोक दिया गया है। अभी तक निमार्ण ऐजेंसी को किसी भी प्रकार का बजट नही मिल पाया है। जिस कारण अल्मोड़ा मे बन रहे बस अड्डे का भविश्य अधर मे लटक गया है। आंखिर कब इस बस अड्डे के लिए बजट अवमक्तु़ होगा यह यक्ष प्रश्न बना हुवा है। इधर रोडवेज के अधिकारियों का कहना है की निमार्ण कार्य अवरूद्ध होने से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, जबकी अभी तक यह कार्य पूर्ण हा जाना चाहिए था। इधर निमोर्ण ऐजेंसी ने भी अब हाथ खड़े कर दिये हैं। ज्ञात रहे कि बस अड्डे का निर्माण नहीं होने से अपर माल रोड में आज भी तमाम रोडवेज की बसें मजबूरी में खड़ी करनी पड़ती हैं। यदि इस प्रस्तावित बस अड्डे का निर्माण हो जाता तो वर्तमान में अपर माल रोड में चल रहा रोडवेज का कार्यालय भी नीचे ही शिफ्ट हो जाता। जिससे मुख्य सड़क मार्ग से भारी वाहनों का दबाव कम हो जाता।

 

सड़क किनारे खड़ी करनी पड़ रही हैं बसें: एआरएम

अल्मोड़ा। एआरएम रोडवेज अल्मोड़ा विजय तिवारी ने कहा कि बस अड्डे का निर्माण नहीं होने से विभाग को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वर्कशॉप में जगह की कमी है। जिस कारण विभिन्न रूटों की बसों को सड़क के किनारे खड़ा करना पड़ रहा है। जो कि इन बसों की सुरक्षा के नजरिये से भी संवेदनशील मामला है।

 

 

दिसंबर 2016 से नहीं मिला है एक भी पैसा: अरोरा

अल्मोड़ा। परियोजना अधिकारी उत्तर प्रदेश निर्माण निगम अल्मोड़ा विवेक अरोरा ने बताया कि अब तक केवल 3 करोड़ 78 लाख रूपये ही ऐजेंसी को सरकार की ओर से मिले हैं। अंतिम डेढ़ करोड़ की किश्त दिसंबर, 2016 में मिली थी। उसके बाद से कोई पैसा इस बस अड्डे के निर्माण के लिए नहीं आया है। फिलहाल सरकार से अगली किश्त आने का इंतजार किया जा रहा है। धनराशि अवमुक्त होने पर ही निर्माण कार्य शुरू किया जायेगा।

About saket aggarwal

Check Also

रुद्रपुर: नजूल नीति से भड़की भाजपा में ‘ज्वाला’

गुटों में बंटे भाजपाइयों में श्रेय लेने की मची होड़ निगम चुनाव में सरकार के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *