Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Almora / हंगामा है क्यो बरपा: ज्ञापन जो दिया है, ज्ञापन देने गये पंचायत प्रतिनिधियों की डीएम ईवा आशीष से तकरार

हंगामा है क्यो बरपा: ज्ञापन जो दिया है, ज्ञापन देने गये पंचायत प्रतिनिधियों की डीएम ईवा आशीष से तकरार

हर्षवर्धन पाण्डेय/अल्मोड़ा। तीन सूत्रीय मांगों को लेकर जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव को ज्ञापन देने गये पंचायत प्रतिनिधियों ने जिलाधिकारी पर उनको धमकाने का आरोप लगाया। इसके बाद गुस्साये पंचायत प्रतिनिधियों ने चैघानपाटा में जिलाधिकारी पर अभ्रदता का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा काटा और जिलाधिकारी के खिलाफ नारेबाजी की।
पंचायत प्रतिनिधियों ने इसे अपना अपमान बताते हुए कहा कि जिलाधिकारी के तानाशाही पूर्ण व्यवहार को कतई बर्दाश्त नही किया जायेगा। मालूम हो कि पूरे प्रदेश में पंचायत प्रतिनिधि अपनी मांगों को लेकर कई माह से आंदोलनरत है और अल्मोड़ा में भी सभी 11 विकासखंडों में पंचायत प्रतिनिधियों ने अनिश्चितकालीन तालाबंदी की हुई है। इसी क्रम में पंचायत प्रतिनिधियों ने आगामी 15 सिंतबर को विकास भवन में स्थित मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय और जिला विकास कार्यालय में तालाबंदी की चेतावनी दी है। मंगलवार को इसी संबध में पंचायत प्रतिनिधि जिलाधिकारी से मिलने गये थे। हंगामे के बाद ब्लाक प्रमुख सूरज सिराड़ी और ज्येष्ठ प्रमुख एडवोकेट महेश चंद्र के नेतृत्व में पंचायत प्रतिनिधियों ने जिलाधिकारी आवास जाकर इस घटना पर अपनी नाराजगी जतायी। इस दौरान पंचायत प्रतिनिधियों की लगभग आधा धंटे तक जिलाधिकारी से बहस भी हुई। पंचायत प्रतिनिधियों ने इस प्रकरण को अपना अपमान बताते हुए कड़ी नाराजगी जताते हुए भविश्य में इस तरह के प्रकरणों पर सख्त रूख अपनाने की चेतावनी दी। जिलाधिकारी आवास पर जाकर मुलाकात करने वालों में हवालबाग के ब्लाक प्रमुख सूरज सिराड़ी, ज्येष्ठ प्रमुख एडवोकेट महेश चंद्र, प्रधान संगठन के संगठन मंत्री देवेन्द्र सिंह नयाल, क्षेत्र पंचायत सदस्य आनंद कनवाल, नंदन बिष्ट, नवीन बिष्ट, अर्जुन सिंह मेहता, हरीश कनवाल सहित दर्जनों पंचायत प्रतिनिधि मौजूद रहे।

दरअसल यह है मामला !
अल्मोड़ा। मामला मंगलवार का है। जब ग्राम प्रधान संगठन के संगठन मंत्री देवेन्द्र सिंह नयाल, सरसों के प्रधान नवीन सिंह बिष्ट, बिमौला के प्रधान हरीश चन्द्र जोशी, बल्टा के प्रधान अर्जुन सिंह मेहता आदि जिलाधिकारी को ज्ञापन देने जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे। पंचायत प्रतिनिधियों ने आरोप लगाया कि ज्ञापन जिलाधिकारी को देने के बाद उनके द्वारा अपनी मांगों को लेकर जिला विकास कार्यालय और और मुख्य विकास अधिकारी कार्यालय में तालांबदी की बात कहते ही जिलाधिकारी भड़क उठीं और कहा कि विकास भवन कोई प्रधानों की फैक्ट्री नही है जो मनमर्जी से तालाबंदी करो। पंचायत प्रतिनिधियों ने आरोप लगाया कि तालाबंदी करके देखो जब तक मैं अल्मोड़ा में हूं तुम्हारे काम नही होने दूंगी।

About saket aggarwal

Check Also

ध्रुव रावत ने जीता बैडमिंटन का एकल खिताब

अल्मोड़ा। देहरादून में चल रही 17 वीं उत्तराखंड राज्य जूनियर एवं सीनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *