Home / Uttatakhand Districts / Almora / अल्मोड़ा: गढ़वाली लोककथा ‘रामी बोराड़ी’ की मनमोहक प्रस्तुति ने बांधा समां

अल्मोड़ा: गढ़वाली लोककथा ‘रामी बोराड़ी’ की मनमोहक प्रस्तुति ने बांधा समां

 

रचना दिवस के कार्यक्रमों की धूम

अल्मोड़ा। मोहन उप्रेती लोक संस्कृति कला एवं विज्ञान शोध समिति के संयुक्त तत्वावधान में स्थानीय रामलीला ग्राउंड धारानौला में चल रहे सात दिवसीय रचना दिवस महोत्सव के चैथे दिन के कार्यक्रम लोक संस्कृति के पुरोधा रहे स्व. मोहन उप्रेती को समर्पित किए गए। कलाकारों ने लोक गीतों एवं नृत्यों के मनमोहक प्रस्तुतियों के साथ गढ़वाल की प्रसिद्ध लोककथा रामी बोराड़ी की मनमोहक प्रस्तुति दे दर्शकों को खासा आकर्शण किया। देर रात्रि तक दर्शक स्थानीय कलाकारों की मंत्रमुग्ध प्रस्तुतियों को देखने के लिए जमे रहे।

मंगलवार देर सायं धारानौला स्थित रामलीला ग्राउंड में आयोजित रचना महोत्सव के चैथे दिन के कार्यक्रम का उद्घाटन पूर्व पालिकाध्यक्ष शोभा जोशी ने दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर शोभा जोशी ने स्व. मोहन उप्रेती को एक सच्चा कला साधक बताते हुए कहा कि उनके प्रयासों से ही हमारी लोक संस्कृति राश्ट्रीय व अंतर्राश्ट्रीय मंच पर प्रतिश्ठित हुई। मोहन उप्रेती पर शोध कर चुकीं कत्थक नृत्यांगना डॉ. दीपा जोशी ने स्व. उप्रेती को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि उत्तराखंड की लोकसंस्कृति के आधुनिक रंगमंच की एक परिकल्पना थी। उन्होंने कहा कि मोहन उप्रेती की ख्याति दिल्ली, बंबई, पूना, भोपाल आदि देश के प्रतिश्ठित नगरों तक है। स्व. उप्रेती की जन्मशदी माह पर आयोजित कार्यक्रमों की श्रृंखला में उत्तराखंड की सांस्कृतिक धरोहर पर स्थानीय कलाकारों ने कई मनमोहक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। मंगलवार देर सायं कार्यक्रम की शुरूआत सकुना दे मांगलिक गीत से हुई। इसके उपरांत सांझ पड़ी गीत पर कलाकारों ने नृत्य की प्रस्तुति दी। छपेली तेरी केमू में गाड़ी, कां हू तेरी जलेबी को डाबा, रूम झूमा जोग्याड़ा तिरौ धारा बोला, मेरो मोहना तुम कतु भलो लागो छा आदि गीत, नृत्य प्रस्तुतियों के साथ गढ़वाल की प्रसिद्ध लोककथा रामी बोराड़ी का भी प्रदर्शन किया गया। इसके अतिरिक्त गीत एवं नाटक प्रभाग के द्वारा जनचेतना संबंधी कार्यक्रम व संस्कृति विभाग के कलाकारों द्वारा छोलिया नृत्य की प्रस्तुति दी गई। कार्यक्रम का संचालन मीना पांडे व अध्यक्ष हेमंत जोशी ने किया। कार्यक्रम में नमित जोशी, कैलाश पांडे, महेंद्र मुसौलोनी, देवेंद्र खाती, संदीप सुठा, गिरिश बिश्ट, नवल वर्मा, उमाशंकर मैड़ी, शशि मोहन पांडे, कविता पांडे, शशि, मनोज सनवाल, एलके पंत, राजू मनराल, आलोक वर्मा, दीपा जोशी, सृजन पांडे, रामदत्त जोशी आदि संगीत प्रेमी मौजूद थे।

About saket aggarwal

Check Also

कृष्णा सेन की धामपुर व कालागढ़ में 13 बीघा जमीन में हिस्सेदारी

बैंक ऑफ बड़ौदा धामपुर में खाते का भी हुआ खुलासा लाखों का लेन-देन हुआ है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *