Home / Uttatakhand Districts / Almora / जीबी पंत संस्थान: मंत्रालय के लिए टेड़ी-खीर साबित हो रहा है निदेशक का चयन

जीबी पंत संस्थान: मंत्रालय के लिए टेड़ी-खीर साबित हो रहा है निदेशक का चयन

जीबी पंत संस्थान के निदेशक का साक्षात्कार फिर टला

अल्मोड़ा। गोविंद बल्लभ पंत राष्ट्रीय हिमालय पर्यावरण विकास संस्थान कोसी कटारमल के नए निदेशक की नियुक्ति की प्रक्रिया एक बार फिर से टल गई है। निदेशक के चयन के लिए दो बार साक्षात्कार टल जाना अपने आप में कई सवाल खड़ा कर रहा है। सूत्रों की मानें तो नए निदेशक के चयन में राजनैतिक हस्तक्षेप इसकी बड़ी वजह मानीं जा रही है।
गौरतलब है कि जीबी पंत के नए निदेशक की तैनाती के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय में साक्षात्कार की तिथि पहले 12 फरवरी नियत की हुई थी। परंतु एक बार फिर तकनीकी पेंच फसने से निदेशक के लिए प्रस्तावित साक्षात्कार स्थगित हो गया है। मालूम हो कि एक साल पहले संस्थान से सेवानिवृत्त हुए निदेशक डॉ. पीपी ध्यानी के बाद से निदेशक पद रिक्त चल रहा था। केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने संस्थान के आवश्यकीय प्रशासनिक कार्यों में आ रहीं अड़चनों को दूर करने के लिए अस्थाई निदेशक के पद पर संस्थान के ही वरिश्ट वैज्ञानिक डॉ. किरीट कुमार को जिम्मा सौंपा था। सूत्रों की मुताबिक केंद्रीय मंत्रालय ने पिछले दिनों स्थाई निदेशक की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू भी की थी। जिसके लिए र्कइं दावेदारों ने आवेदन भी किया था। परंतु, मंत्रालय ने निदेशक के लिए पहले साक्षात्कार की तिथि 15 जनवरी की तय की थी, जो किसी कारणवश टल गई थी। दोबारा साक्षात्कार के लिए 12 फरवरी की तिथि तय की परंतु निर्धारित तिथि को एक बार फिर साक्षात्कार नहीं हो सकें। सूत्रों के अनुसार संस्थान के स्थाई निदेशक चुनने में राजनैतिक दखल मंत्रालय के लिए किसी टेड़ी-खीर से कम साबित नहीं हो रहा है।

About saket aggarwal

Check Also

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री बेहड़ प्रकरण में एसएसपी सख्त

रुद्रपुर। पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलक राज बेहड़ को फोन पर जान से मारने की धमकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *