Home / Uttatakhand Districts / Almora / अल्मोड़ा: वित्तीय वर्ष में शराब तस्करी में 5 लाख 4 हजार की वसूली

अल्मोड़ा: वित्तीय वर्ष में शराब तस्करी में 5 लाख 4 हजार की वसूली

वर्ष 2017-18 में राजस्व का लक्ष्य 79 करोड़
अल्मोड़ा। जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि आबकारी अधिनियम की धारा-72 के अंर्तगत अवैध शराब की तस्करी में जब्त वाहनों से अर्थदंड के रूप में आरोपित धनराशि 6 लाख 54 हजार रूपये में से 5 लाख 4 हजार रूपये की वसूली की गयी है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2017-18 में 13 वाहनों का चालान कर यह धनराशि आरोपित की गयी है।
जिलाधिकारी ने बताया कि वर्ष 2017-18 में आबकारी विभाग का राजस्व लक्ष्य 79 करोड़ रूपये रखा गया है। जिसमें माह नवंबर तक 68 करोड़ 77 लाख 44 हजार 6 सौ 14 रूपये राजस्व की प्राप्ति कर ली गयी है। जबकि विगत वित्तीय वर्ष 2016-17 में 63 करोड़ 93 लाख 35 हजार 17 रूपये की राजस्व प्राप्ति हुई थी। उन्होंने बताया कि वर्ष 2017-18 में नवंबर माह तक कुल 156 अभियोग पकड़े गये हैं, जबकि वर्ष 2016-17 में 162 अभियोग पकड़े गये थे। वर्ष 2017-18 में 135 अनुज्ञापियों के विरूद्ध उल्लघंन करने की कार्यवाही की गयी और वर्ष 2016-17 में 108 अनुज्ञापियो के विरूद्व उल्लंघन करने की कार्यवाही की गयी थी। जिलाधिकारी ने बताया कि आबकारी विभाग को निर्देश दिये गये हैं कि वे इसी तरह अभियान जारी रखें और निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त किया जाय। उन्होंने आबकारी विभाग को यह भी निर्देश दिये हैं कि जहां पर ओवर रेटिंग की शिकायतें प्राप्त हो रही है उनके खिलाफ भी नियमानुसार कार्यवाही करें।
खुलेआम ओवररेट में बिक रही है शराब
अल्मोड़ा। जनपद की लगभग तमाम शराब की दुकानों में खुलेआम ओवर रेट में शराब बेची जा रही है। मदिरा के शौकीन लोगों से सेल्समैन खुलेआम 30 से 40 रूपये अधिक वसूल रहे हैं। लोगों का आरोप है कि इस मामले में जिला प्रशासन और आबकारी विभाग की ओर से केवल समाचार पत्रों के माध्यम से जनता को भ्रमित किया जाता है। ओवररेट पर मदिरा की बिक्री की शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। शराब की अधिकांश दुकानों में रेट लिस्ट भी नहीं टंगी रहती है।
—————————-

About saket aggarwal

Check Also

रामनगर: हत्या मामले में तीन नामजद आरोपी दोषमुक्त

रामनगर। करीब एक वर्ष पूर्व हत्या के मामले में अपर सत्र न्यायाधीश ने सुनवाई करते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *