Home / Breaking News / रुद्रप्रयाग: विभागों के आश्वासन के बाद भी ग्रामीण आंदोलन पर अडिग़

रुद्रप्रयाग: विभागों के आश्वासन के बाद भी ग्रामीण आंदोलन पर अडिग़

लोनिवि एवं पीएमजीएसवाई के अधिकारी पहुंचे आंदोलित ग्रामीणों से वार्ता करने
दस फरवरी के बाद भी कभी भी ग्रामीण करेंगे अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू
पाांच फरवरी को जिला मुख्यालय में होगा विषाल प्रदर्षन
मोटरमार्ग निर्माण की मांग को लेकर स्वीली, सेम और डुंगरी के ग्रामीणों का क्रमिक अनशन जारी

रुद्रप्रयाग। दरमोला-डुंगरी-स्वीली और सेम-स्वीली-डुंगरी मोटरमार्ग निर्माण की मांग को लेकर ग्रामीणों का क्रमिक अनशन छठवें दिन भी जारी रहा। ग्रामीणों से वार्ता कने के लिये लोक निर्माण विभाग रुद्रप्रयाग एवं पीएमजीएसवाई जखोली के अधिकारी भी पहुंचे, लेकिन दोनों विभागों की ओर से लिखित आश्वासन न मिलने के कारण ग्रामीणों ने क्रमिन अनशन जारी रखा। इसके साथ ही ग्रामीणों ने निर्णय लिया कि पांच फरवरी को जिला मुख्यालय में सड़क निर्माण की मांग को लेकर विशाल प्रदर्शन होगा और 10 फरवरी के बाद कभी भी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल शुरू की जायेगी।
दरअसल, दरमोला-डुंगरी-स्वीली और सेम-स्वीली-डुंगरी मोटरमार्ग निर्माण की मांग को लेकर स्वीली, सेम और डुंगरी के ग्रामीण पिछले छह दिनों से क्रमिक अनशन पर बैठे हैं। बुधवार को पीएमजीएसवाई जखोली के अधिशासी अभियंता पवन कुमार, सहायक अभियंता और लोक निर्माण विभाग के अवर अभियंता विश्वजीत खत्री धरना स्थल पर ग्रामीणों से वार्ता करने के लिये पहुंचे। इस दौरान पीएमजीएसवाई के अधिशासी अभियंता ने बताया कि दरमोला-डुंगरी साढ़े चार किमी मोटरमार्ग की प्रशासनिक स्वीकृति शासन से प्राप्त हो चुकी है। ग्रामीणों के अनुसार अलायमेंट किये जाने और सर्वे करने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी। जबकि लोक निर्माण विभाग के अवर अभियंता विश्वजीत खत्री ने बताया कि दरमोला से सेम तक ढ़ाई किमी मोटरमार्ग निर्माण के प्रथम चरण की स्वीकृति प्राप्त हो रखी है और वन भूमि स्थानांतरण को लेकर वन विभाग में कार्रवाई चल रही है। शीघ्र ही रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी। दोनों विभागों के अधिकारियों द्वारा दिये गये आश्वासनों के बाद आंदोलित ग्रामीण संतुष्ट नहीं हुए और ग्रामीणों ने आगे भी आंदोलन जारी रखने का निर्णय लिया। ग्रामीणों ने कहा कि जब तक धरातल पर दोनों ओर से मोटरमार्ग का निर्माण कार्य शुरू नहीं होता है, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। पांच फरवरी को जिला मुख्यालय में विशाल प्रदर्शन किया जायेगा और इसके बाद भी सड़क की मांग पूरी नहीं होती है तो दस फरवरी के बाद कभी भी अनिश्चितकालीन भूखहड़ताल षुरू की जायेगी। साथ ही ग्रामीणों ने चेतावनी देते हुये कहा कि अब वह विभागों के कोरे आष्वासनों में नहीं आएंगे। मोटरमार्ग निर्माण को लेकर आर-पार की लड़ाई लड़ी जायेगी। ग्रामीणों के आंदोलन को भरदार जन विकास मंच के अध्यक्ष लक्ष्मी प्रसाद डिमरी, ग्राम पंचायत जवाड़ी के प्रधान कुंवर लाल सत्यार्थी, सामाजिक कार्यकर्ता जसपाल पंवार ने भी अपना समर्थन दिया है। छठवें दिन पूर्व प्रधान ब्रहमानंद डिमरी, द्वारिका प्रसाद डिमरी, विष्णु प्रसाद डिमरी, द्वारिका प्रसाद मैठाणी, अरूण डिमरी, योगेष डिमरी, श्रीमती बिछना देवी, सुभागा देवी, माहेश्वरी देवी, सुबोधनी देवी अनशन पर बैठे रहे। जबकि मोटरमार्ग निर्माण संघर्ष समिति की अध्यक्ष रीना देवी, हरिदत्त डिमरी, कृष्णानंद डिमरी, अनिल डिमरी, प्रकाशचन्द्र, हर्षमणि डिमरी, वेणी प्रसाद, पुष्पानंद, गोदाम्बरी देवी, बच्ची देवी, पीताम्बरी देवी, सलोप सिंह, लोकगायक विक्रम कप्रवाण, देव सिंह पंवार, पूर्णानंद, भक्ति प्रसाद, सुरमा देवी, विष्णु प्रसाद, शशि देवी, राजेश्वरी देवी, लक्ष्मण सिंह सहित अन्य ग्रामीण समर्थन में मौजूद रहे। संचालन आंदोलन के प्रवक्ता कृष्णानंद डिमरी ने किया।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी:खाटू श्याम मंदिर में भंडारा कल

हल्द्वानी। मुखानी स्थित श्री खाटू श्याम मंदिर का 25 वां स्थापना दिवस कल 23 सितंबर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *