Home / Breaking News / अन्ना ने अपने ही अंदाज में भरी पहाड़ पर हुंकार

अन्ना ने अपने ही अंदाज में भरी पहाड़ पर हुंकार

श्रीनगर में सियासी दलों और उनकी सरकारों पर किए प्रहार

बोले, बाज नहीं आ रहा पाक, दो टूक जवाब दो

देहरादून/श्रीनगर। समाजसेवी अन्ना हजारे बुधवार को अपने रंग में दिखे। उत्तराखंड के दौरे के दौरान उन्होंने पहाड़ पर हुंकार भरी तो सियासी दलों और उनकी सरकारों पर निशाना साधा। किसानों के लिए जंग का ऐलान किया तो पाक की नापाक हरकतों पर दो टूक जवाब देने की वकालत की। साथ ही देवभ्ूामि उत्तराखंड की जनभावनाओं को टच करते हुए पहाड़ी राज्य की राजधानी पहाड़ पर ही होने का भी समर्थन किया।

श्रीनगर गढ़वाल में जनसभा को संबोधित करते हुए अन्ना हजारे ने ने पाकिस्तान मुद्दे पर केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने कहा कि लड़ाई में जितने जवान शहीद नहीं होते, उतने लड़ाई के बावजूद शहीद हो रहे हैं। कहा कि वैसे तो पाकिस्तान और भारत के बीच लड़ाई ठीक नहीं है। दोनों की आर्थिक स्थिति खराब है। लेकिन, पाकिस्तान अगर नहीं मानता है तो कहां तक हमारे जवान शहीद होंगे। उन्होंने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान अगर बाज नहीं आ रहा है तो एक बार आर-पार की लड़ाई होने दो, जो होना है होने दो।

अन्ना हजारे उत्तराखंड के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। जनलोकपाल, लोकायुक्त कानून और किसानों के हकों के लिए 23 मार्च से दिल्ली में शुरू होने वाले आंदोलन में समर्थन जुटाने के लिए वह बुधवार को श्रीनगर गढ़वाल पहुंचे। समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा कि राज्य सभा और लोकसभा में बिना चर्चा के सरकार ने कई कानून बिना चर्चा के पास करा दिए। ऐसे कार्यों से सरकार लोकतंत्र से हुक्म तंत्र की तरफ बढ़ रही है। जो देश के लिए खतरा है। उन्होंने कहा सरकार ने लोकपाल और लोकायुक्त को कमजोर कर दिया है। समाज सेवी अन्ना हजारे ने श्रीनगर नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद पर निर्दलीय प्रत्याशी विपिन चंद्र मैठाणी चुनने पर श्रीनगर के मतदाताओं की सराहना की। इसके लिए उन्होंने श्रीनगर की जनता को बधाई भी दी। उन्होंने कहा कि वह निर्वाचन आयोग से चुनाव में चुनाव चिन्ह को हटाए जाने की मांग करते आ रहे हैं। जनता का उम्मीदवार बनकर ही जनता की सेवा की जा सकती है।

 

 

गैरसैंण राजधानी के आंदोलन को समर्थन

श्रीनगर पहुंचे समाजसेवी अन्ना हजारे के समक्ष लोगों ने उत्तराखंड की स्थायी राजधानी गैरसैंण में होने की बात रखी। अन्ना से लोगों ने इसके लिए चलाए जा रहे आंदोलन को समर्थन देने की मांग भी की। किसान मंच युवा के प्रदेश अध्यक्ष गणेश भट्ट ने इसका प्रस्ताव अन्ना हजारे को दिया। अन्ना ने राजधानी के सवाल पर कहा कि पहाड़ की राजधानी पहाड़ में ही होना असंभव नहीं, बल्कि संभव है। उन्होंने कहा इसके लिए लोगों को संगठित होना पड़ेगा।

 

 

अन्ना का तिरंगा रैली के साथ स्वागत

अन्ना हजारे के श्रीनगर पहुंचने पर गढ़वाल विवि के छात्रसंघ पदाधिकारियों एवं गढ़वाल विवि के छात्र-छात्राओं ने बाइक व तिरंगा रैली के साथ स्वागत किया। गढ़वाल विवि के मुख्य गेट के समीप से सभा स्थल गोला पार्क तक छात्र तिरंगा रैली के साथ अन्ना हजारे को लाये। इस मौके पर छात्रसंघ अध्यक्ष प्रदीप पंवार, आयुष मियां, दिव्यांशु बहुगुणा,आर्यन ग्रुप के संजय बिष्ट, छात्रसंघ महासचिव देवकांत देवराड़ी आदि छात्र मौजूद थे। इसके साथ ही पालिका अध्यक्ष विपिन चन्द्र मैठानी ने भी तिरंगा रैली में शिरकत की।

About saket aggarwal

Check Also

रुद्रपुर:अटलजी के आदर्शों पर चलने का लें संकल्प

रुद्रपुर। भाजपा जिला इकाई द्वारा पूर्व अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी गई। इसके लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *