Home / Breaking News / रामनगर : बच्चों के भविष्य से मजाक, विभाग बना लापरवाह
राजकीय प्राथमिक विद्यालय ऊंटपड़ाव रामनगर।

रामनगर : बच्चों के भविष्य से मजाक, विभाग बना लापरवाह

रामनगर। राजकीय प्राथमिक विद्यालय ऊंटपड़ाव में प्राथमिक शिक्षा की अव्यवस्थाएं चरम पर है। पठन-पाठन की व्यवस्थाओं को अभिभावकों से 10 रुपये प्रति बच्चा शुल्क लिया जा रहा है और अप्रशिक्षितों से बच्चों को पढ़वाया जा रहा है। इससे प्रदेश की प्राथमिक शिक्षा की पोल खुल रही है।
इस विद्यालय में लगभग 250 से अधिक बच्चे पढ़ते हंै। इंटर पास अप्रशिक्षितों के अलावा स्कूल में मिड-डे मील पकाने वाली दो माताओं से भी बच्चों को पढ़वाया जा रहा है जोकि बच्चों का भविष्य के साथ खिलवाड़ है। शिक्षा विभाग के अधिकारी इस विद्यालय को लेकर गम्भीर नहीं हैं। इस विद्यालय में एक मात्र प्रधानाध्यापिका तैनात है। प्राथमिक विद्यालय में 250 से अधिक गरीब बच्चे पढ़ते हंै। अभिभावकों को 10 रुपये शुल्क प्रतिमाह देने को मजबूर होना पड़ रहा है। बताया गया कि अभिभावक संघ ने कुछ अप्रशिक्षितों को टीचर बनाया है और प्रधानाध्यापिका की भी इसमें स्वीकृति है। शिक्षा विभाग के अधिकारी इस विद्यालय का निरीक्षण कर मिड डे मील, छात्रवृत्रि वितरण आदि योजनाओं के संचालन पर भी पैनी नजर नहीं रख रहे हैं। विद्यालय की प्रधानाध्यापिका का शबाना का कहना है कि शिक्षक नहीं होने से पठन-पाठन में दिक्कतें हो रही हैं।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी: पुलिस कर्मियों के सामने ‘बेघर’  होने का संकट

कोतवाली में बैरक खाली करने के फरमान से मची खलबली सलीम खान हल्द्वानी। जहां एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *