Breaking News
Home / Breaking News / रुद्रपुर: ड्रोन कैमरे से होगी बाढग़्रस्त क्षेत्रों की निगरानी

रुद्रपुर: ड्रोन कैमरे से होगी बाढग़्रस्त क्षेत्रों की निगरानी

रुद्रपुर। शासन से प्राप्त निर्देशों के मुताबिक मानसून को दृष्टिगत रखते हुए जिला प्रशासन ने मानसून आने से पूर्व ही सभी तैयारियों को पूर्ण कर लिया है। इसी के चलते आपदा प्रबंधन द्वारा जनपद के कुछ क्षेत्रों में बाढ़ की संभावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए बाढ़ की स्थिति में द्रुत गति से राहत एवं बचाव कार्य समेत नदियों के भू-कटाव-जल स्तर की गहनता से निगरानी के लिये ड्रोन कैमरे की व्यवस्था की गयी है। यह जानकारी एडीएम प्रताप सिंह शाह ने ड्रोन कैमरे के प्रशिक्षण संचालन की जानकारी देने हेतु आयोजित कार्यशाला में दी। उन्होंने कहा कि बाढ़ की स्थिति की जानकारी लेने, नदी तट के भू-कटाव व जल स्तर की गहनता से जानकारी लेने, बाढ़ में फंसे व्यक्तियों की स्थिति की जानकारी लेते हुए राहत एवं बचाव कार्यों में ड्रोन कैमरा अत्यन्त लाभकारी सिद्ध होगा। बाढ़ निगरानी को अतिरिक्त ड्रोन कैमरे का उपयोग नदियों के चैनालाइजेशन कार्य तथा अन्य कार्यों पर नजर रखने हेतु भी किया जायेगा। उन्होंने ड्रोन कैमरे के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि ड्रोन कैमरे को 200 मीटर की ऊंचाई तथा 3 किलोमीटर की दूरी तक एक ही स्थान से कण्ट्रोल किया जा सकता है। ड्रोन कैमरे से 4 के (4ा) क्वालिटी की पिक्चर व वीडियोग्राफी की जा सकती है। उन्होंने बताया कि ड्रोन कैमरा 20 मीटर प्रति सेकेण्ड की स्पीड से उड़ान भरता है। एडीएम ने मानसून सत्र के दौरान आईआरएस सिस्टम से जुड़े सभी अधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रों में नजर रखने, 24 घण्टे मोबाइल ऑन रखने के निर्देश दिये। इस अवसर पर जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी डॉ. अनिल शर्मा ने बताया कि जिले में मानसून को दृष्टिगत रखते हुए 120 बाढ़ संभावित क्षेत्र चिन्हित किये गये हैं जिसमें 52 क्षेत्र अति संवेदनशील तथा 68 क्षेत्र संवेदनशील हैं। उन्होंने बताया कि इस वर्ष निगरानी हेतु 35 बाढ़ चौकियां बनायी गयी हैं। अति संवेदनशील क्षेत्रों के विषय में तहसीलवार जानकारी देते हुए बताया कि जसपुर क्षेत्र में 2, काशीपुर में 1, बाजपुर क्षेत्र में 2, गदरपुर क्षेत्र में 9, रुद्रपुर क्षेत्र में 2, किच्छा क्षेत्र में 10, सितारगंज क्षेत्र में 17, खटीमा क्षेत्र में 9 क्षेत्र चिन्हित हैं। उन्होंने संवेदनशील क्षेत्रों के विषय में तहसीलवार जानकारी देते हुए बताया कि जसपुर क्षेत्र में 6, काशीपुर क्षेत्र में 8, बाजपुर क्षेत्र में 4, गदरपुर क्षेत्र में 8, रुद्रपुर क्षेत्र में 2, किच्छा क्षेत्र में 8, सितारगंज क्षेत्र में 15, खटीमा क्षेत्र में 17 क्षेत्र चिन्हित हैं। उन्होंने बताया कि जनपद में 106 शरणआश्रय स्थल बनाये गये हैं। उन्होंने तहसीलवार शरण स्थलों के विषय में बताया कि जसपुर में 14, काशीपुर में 20, बाजपुर में 9, गदरपुर में 13, रूद्रपुर में 12, किच्छा में 12, सितारगंज में 13, खटीमा में 13 शरण आश्रय स्थल बनाये गये हैं। इस अवसर पर एसपी सिटी देवेन्द्र पींचा,अधीक्षण अभियन्ता लोक निर्माण विभाग जीसी विश्वकर्मा आदि उपस्थित थे।

About saket aggarwal

Check Also

नैनीदून जनशताब्दी एक्सप्रेस के चलने से रोडवेज को लाखों का नुकसान

कर्मचारी यूनियन की बैठक में उठा मुद्दा यूपी रूट पर बंद पड़ी बसों को पुन: …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *