Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Bageshwar / बागेश्वर का उत्तरायणी मेला राजकीय मेला घोषित

बागेश्वर का उत्तरायणी मेला राजकीय मेला घोषित

बागेश्वर। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को नुमाइश खेत मेला मैदान, बागेश्वर में पौराणिक, धार्मिक एवं ऐतिहासिक उत्तरायणी मेले का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उत्तरायणी मेले को राजकीय मेला घोषित करने की घोषणा की। उन्होंने राजकीय इंटर कॉलेज सिरकोट को स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व.खड़क सिंह के नाम पर रखे जाने, बागेश्वर शहर को ग्रेविटी का जल उपलब्ध कराने के लिए जलनिगम एवं जलसंस्थान को बैजनाथ क्षेत्र में कार्य योजना तैयार करने, शहर में कूड़े के निस्तारण हेतु किलवैस्ट मशीन देने एवं प्लास्टिक बोतलों के निस्तारण हेतु स्मार्टविन मशीन देने की घोषणा भी की।
मुख्यमंत्री ने समस्त जनता को लोहड़ी एवं मकर संक्रान्ति पर्व की बधाई व शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यह त्यौहार समृद्धि का प्रतीक है यह फसल चक्र से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि मेले में लगी प्रदर्शनी में रखे उत्पादों को देखकर ऐसा लगता है कि लोगों का पारम्परिक खेती की ओर रूझान बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर जिला अस्पताल में आईसीयू देने का निर्णय सरकार द्वारा लिया गया है। विशेषकर दूरस्थ क्षेत्रों के चिकित्सालयों में महिलाओं के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। जिला अस्पताल बागेश्वर में 16 चिकित्सकों की तैनाती की गई है। प्रदेश में 173 चिकित्सकों की तैनाती कर दी गई है। शीघ्र 150 चिकित्सकों एवं नर्सो की भर्ती भी जल्द की जायेगी। मुख्यमंत्री ने उत्तरायणी मेले के उद्घाटन अवसर पर विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई विकास प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। इस अवसर पर नगरपालिका अध्यक्षा गीता रावल द्वारा मुख्यमंत्री को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम से पूर्व बागनाथ मन्दिर में पूजा अर्चना करते हुए प्रदेश की खुशहाली की कामना की।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केन्द्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा ने कहा कि यह मेला अपने आप में एक बहुत बड़ा धार्मिक, ऐतिहासिक व पौराणिक मेला है। इसे भव्य रूप देने का प्रयास किया जायेगा।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि मेले हमारी धरोहर है, इन्हे संजोये रखना हम सभी का दायित्व बनता है। उन्होंने कहा कि बागेश्वर का आजादी में बहुत बड़ा योगदान रहा है कुली बेगार प्रथा का समापन इसी बागनाथ की भूमि से सरयू गोमती के संगम पर हुआ था।
इस अवसर पर विधायक चन्दन राम दास, विधायक बलवंत सिंह भौर्याल, अध्यक्ष जिला पंचायत हरीश सिंह ऐठानी, अध्यक्ष नगर पंचायत कपकोट चम्पा देवी, जिलाधिकारी रंजना राजगुरू, पुलिस अधीक्षक मुकेश कुमार सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति, जिला स्तरीय अधिकारी, स्थानीय जनता व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी:परिवार को सौंपा नेत्रदान का सर्टिफिकेट

हल्द्वानी। समाजसेविका कांता विनायक के अथक प्रयासों से अब तक 65 नेत्रदान हो चुके हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *