Home / Breaking News / बीडी पांडे अस्पताल: मरीजों के परिजनों तथा  भाजपा कार्यकर्ताओं ने अस्पताल में जमकर हंगामा काटा

बीडी पांडे अस्पताल: मरीजों के परिजनों तथा  भाजपा कार्यकर्ताओं ने अस्पताल में जमकर हंगामा काटा

संवाददाता, नैनीताल। बीडी पांडे पुरूष चिकित्सालय में पहले मरीज को पथरी के ऑपरेशन के लिए तैयार करना और ऑपरेशन से मना करने पर बखेड़ा खड़ा हो गया। मामले को लेकर मरीजों के परिजनों तथा अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं ने अस्पताल परिसर में जमकर हंगामा काटा। जिससे कुछ देर के लिए अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। मरीज ने आरोप लगाया कि उसे आपरेशन के लिए भर्ती कर रात भर भूखा रखा गया, दवाइयां मंगाई और बाद में आपरेशन नहीं किया। इसको लेकर भाजपा महिला मोर्चा ने अस्पताल में हंगामा काटा। इधर चिकित्सकों ने मरीज की आपेरशन तक दिल की धड़कन सामान्य नहीं होने की बात कही। प्राप्त जानकारी के अनुसार आनंद प्रकाश (४७) पुत्र प्रेम राम निवासी सात नंबर स्टाफ हाउस उच्च न्यायालय में दिहाड़ी पर बढ़ई का काम करता है। प्रकाश की पित्त की थैली में पथरी है जिसका उपचार बीती एक जनवरी से बीडी पांडे जिला अस्पताल चल रहा था। इस दौरान उसकी कई जांचें कराई गई और बाद में चिकित्सकों ने आपरेशन कर पथरी निकालने की सलाह दी। इस पर वह मंगलवार को जिला अस्पताल में भर्ती हो गया। साथ में उसके पत्नी सुनीता देवी, भाई गोविंद एवं भाभी पदमा देवी भी तीमारदारी को पहुंचे। इधर मरीज ने आरोप लगाया कि मंगलवार की रात को यह कहकर खाना नहीं दिया गया कि बुधवार की सुबह उसका आपरेशन किया जाएगा। फिर अनीमा लगाकर पेट भी साफ किया गया। बुधवार की सुबह उससे दवाइयां भी मंगा ली गई और आपरेशन करने के लिए कपड़े पहना दिए गए। इसके बाद जब निश्चेतक डॉ. एचसी भट्ट उसके पास पहुंचे तो उन्होंने उसकी हालत को गंभीर बताते हुए कहा कि उसका आपरेशन नही किया जा सकता है। और उसे हल्द्वानी के लिए रिफर कर दिया गया। आपरेेशन नहीं किए जाने की बात सुनकर रात से भूखे मरीज और तीमारदारों का पारा चढ़ गया। उन्होंने चिकित्सकों पर उपचार में लापरवाही का आरोप लगाते हुए अस्पताल मे हंगामा काटना शुरू कर दिया। इस बीच मरीज के उपचार नहीं होने की शिकायत पर भाजपा महिला मोर्चा के सदस्य भी पहुंच गए और चिकित्सकों का घेराव किया। आरोप लगाया कि जिला अस्पताल में ?मरीजों का ढंग से उपचार नहीं किया जा रहा है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि चिकित्सकों ने सही से उपचार नहीं किया तो मुख्यमंत्री तक से शिकायत की जाएगी। बाद में मरीज ने ही जिला अस्पताल में उपचार कराने से इंकार कर दिया। घेराव करने वालों में रीना महरा, ममता साह, रजनी चैधरी, हीरा नयाल आदि शामिल थी। इधर सर्जन डॉ. वीके मिश्रा ने कहा कि आनंद प्रकाश का आपरेशन किया जाना था लेकिन दिल की धड़कन व सांस की बीमारी आने पर मना किया गया है उपचार में लापरवाही के आरोप बिल्कुल निराधार है।

About saket aggarwal

Check Also

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री बेहड़ प्रकरण में एसएसपी सख्त

रुद्रपुर। पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलक राज बेहड़ को फोन पर जान से मारने की धमकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *