Breaking News
Home / Breaking News / भूमि मुआवजा घोटाले के आरोपियों की न्यायिक रिमांड बढ़ी

भूमि मुआवजा घोटाले के आरोपियों की न्यायिक रिमांड बढ़ी

नैनीताल। जिला एवं सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम कुमकुम रानी की अदालत ने एनएच 74 भूमि मुआवजा घोटाले में गिरफ्तार सभी 15 आरोपियों की न्यायिक रिमांड तीन फरवरी तक बढ़ा दी है। इससे पूर्व एसआईटी द्वारा आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश किए जाने की संभावना है। इधर जानकारों के मुताबिक एनएच घोटाले के आरोपियों को अब 85 दिन बीत चुके हैं। नियमानुसार यदि गिरफ्तार व्यक्ति के खिलाफ 90 दिन के भीतर जांच एजेंसी चार्जशीट कोर्ट में पेश नहीं कर पाती है तो यह आरोपी के पक्ष को मजबूत करता है। इसलिये जांच एजेंसीयों को अगले दो-तीन दिन में आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट पेश करनी होगी। इसलिये अदालत ने आरोपियों की रिमांड केवल चार दिन ही बढ़ाई है।
मामले के अनुसार एनएच 74 के चौड़ीकरण के लिये अधिग्रहीत की गई भूमि का मुआवजा दिये जाने में करोड़ों रुपयों की हेराफेरी होने पर तत्कालीन आयुक्त डी सैंथिल पांडियन के निर्देश पर अपर जिलाधिकारी ऊधमसिंह नगर प्रताप साह ने दस मार्च 2017 को रुद्रपुर में कई पीसीएस अफसरों, राजस्व कर्मियों व काश्तकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। जांच के दौरान एसआईटी ने पूर्व विशेष भूमि अध्यापित अधिकारी डीपी सिंह, पूर्व एसडीएम भगत सिंह फोनिया, अनिल शुक्ला सहित 15 लोगों को गिरफ्तार किया। जिनकी न्यायिक रिमांड मंगलवार को समाप्त हो गई। जिस पर अभियोजन पक्ष ने आरोपियों की रिमांड बढ़ाने की अपील अदालत में पेश की। इस आधार पर इन सभी आरोपियों को वीडियों कांफ्रेंसिंग के जरिये न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। कोर्ट ने सभी आरोपियों की रिमांड तीन फरवरी तक बढ़ा दी।

About saket aggarwal

Check Also

डोईवाला: 11 वारंटियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा

डोईवाला/ब्यूरो। पुलिस ने न्यायालयों द्वारा गैर जमानती वारंट जारी किए गए 11 वारंटियों को गिरफ्तार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *