Home / Breaking News / आत्महत्याओं के पीछे केंद्र की गलत नीतियां- हरीश रावत

आत्महत्याओं के पीछे केंद्र की गलत नीतियां- हरीश रावत

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने गुरुवार को एक बार फिर अपने ही अंदाज में बीजेपी की केंद्र व राज्य सरकारों पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि राज्य के किसान और व्यापारी केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण आत्महत्या करने पर विवश हैं। राज्य सरकार इन आत्महत्याओं को लेकर संवेदनशील नहीं है। अगर हालात यही रहते हैं तो स्थिति और अधिक बिगड़ सकती है। सरकार को तत्काल इस मुद्दे पर ध्यान देना चाहिए।

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में बोलते हुए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि वह प्रकाश पांडे की मौत के समय भी राज्य सरकार को आगाह कर चुके हैं, लेकिन सरकार ने उनकी बात को गंभीरता से नहीं लिया। अब राजधानी में एक और ट्रांसपोर्टर बलवंत द्वारा आत्महत्या कर ली गई है, जो बेहद चिंता का विषय है। उन्होंने किसान और व्यापारियों की समस्याओं को लेकर सरकार की संवेदनहीनता पर भी सवाल उठाया। हरदा ने कहा कि सरकार अगर नहीं मानती है कि लोग कर्ज के कारण या नोटबंदी व जीएसटी के कारण आत्महत्याएं कर रहे हैं तो न मानने से सच बदल नहीं सकता है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार पर राज्य की उपेक्षा का आरोप लगाते हुए कहा कि इस बार के आम बजट में उत्तराखंड का कतई ध्यान नहीं रखा गया है। जिसकी नाकामी को मुख्यमंत्री ऑल वैदर रोड योजना का ढिंढौरा पीट कर छिपा रहे हैं। उन्होंने अपने मंदिर भ्रमण अभियान के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा कि वह अपने इस अभियान के जरिए उस मोदी मॉडल की तलाश कर रहे हैं जो चुनाव जीतने की पक्की गारंटी देता है। उन्होंने कहा कि मैं भी सोच रहा हूं कि हमने इतना अच्छा काम किया फिर भी जनता ने हमें क्यों हरा दिया। पत्रकार वार्ता के बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत मृतक ट्रांसपोर्टर बलवंत सिंह के परिजनों से भी मिलने गए और उन्होंने पीडि़त परिवार को ढांढस बंधाते हुए उन्हें हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया।

About saket aggarwal

Check Also

फरवरी में होगी जूनियर राष्ट्रीय स्कीइंग प्रतियोगिता

औली में कृत्रिम बर्फ बनाने का कार्य हुआ शुरु 17 को आएंगे फ्रांस से आएंगे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *