Home / aalekh

aalekh

कहानी: काफल वाली

काफल से जुड़ी एक सुंदर कहानी पढिय़े और महसूस कीजिये पहाड़ को…   मेरी नणदा सुशीले नणदा मिठि बेरी खयोंले य। अचानक ही इस गीत के बोल सुनते ही एकाएक उसके मुंह से निकला, रुक्मा…! हाथ में काफल के पेड़ की टहनियों से तोडें गए ताजे व काले-काले काफल अचानक …

Read More »

महिलाओं को मिलना चाहिए समानता का अधिकार : पीहू

गदरपुर। हर साल हम आठ मार्च को विश्व की प्रत्येक महिला के सम्मान में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाते हैं। लेकिन महिला दिवस मनाए जाने का इतिहास हर कोई नहीं जानता। आठ मार्च को मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सम्पूर्ण विश्व की महिलाएं देश, जात-पात, भाषा, राजनीतिक, सांस्कृतिक भेदभाव …

Read More »

5 मार्च-आज का इतिहास

भारतीय एवं विश्व इतिहास में पांच मार्च की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं- 1699- महाराजा जय ङ्क्षसह ने अंबर का ङ्क्षसहासन संभाला। 1793 – ऑस्ट्रिया के सैनिकों ने फ्रांस को हरा कर उसके साम्राज्य पर फिर से कब्जा किया। 1851- भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण की स्थापना। 190़5- स्वतंत्रता सेनानी सुशीला दीदी …

Read More »

कभी सूर्य देवता के प्रसाद के रूप में चढ़ती थी बाल मिठाई 

दीपक मनराल, अल्मोड़ा। उत्तराखंड के लोकप्रिय व्यंजनों की यदि बात करें तो इसमें अल्मोड़ा की बाल मिठाई का नाम सबसे पहले आता है। हालांकि इस मिठाई को किसने ईजाद किया था, इसके कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं मिलते, लेकिन कहा जाता है कि यहां मिठाई सबसे पहले सातवीं शताब्दी में नेपाल से …

Read More »

टिहरी गढ़वाल: देवी दुर्गा को समर्पित है सुरकंडा देवी मंदिर

टिहरी गढ़वाल : सुरकंडा देवी मंदिर प्रमुख हिन्दू मंदिर है , जो कि उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल जनपद में जौनुपर के सुरकुट पर्वत पर स्थित है एवम् यह मंदिर धनोल्टी और कानाताल के बीच स्थित है । चंबा- मसूरी रोड पर कद्दूखाल कस्बे से डेढ़ किमी पैदल चढ़ाई चढ़ कर …

Read More »

उमा देवी मंदिर, कर्णप्रयाग: भव्य, आलोकिक और पौराणिक मंदिर

कर्णप्रयाग । उत्तराखण्ड के इन अलोकिक पौराणिक एवं भव्य  मंदिरों में से एक मंदिर है, माँ उमा देवी का मंदिर, जो साक्षात माँ दुर्गा  (पार्वती) का स्वरूप हैं इनको ब्रह्मचारिणी के नाम से भी पुकारा जाता है, जिनकी पूजा नवरात्रों के दौरान द्वितीय दिवस में की जाती है! माँ उमा देवी …

Read More »

न्याय के देवता गोलू महाराज की कथा

  न्याय के देवता गोलू महाराज की कहानी पुराने बुर्जुग तो जानते हैं लेकिन आजकल के नये बच्चे और युवा गोलू महाराज से जुड़ी कथा कम ही जानते हैं। इसलिये हम प्रस्तुत कर रहे हैं गोलू महाराज से जुड़ी कथा… उत्तराखंड के लोकदेवता, यहाँ के जनमानस के इष्ट देव श्री …

Read More »

रूपकुंड: जितना खूबसूरत उतना ही रहस्यमय

चमोली। रूपकुंड (कंकाल झील) भारत उत्तराखंड राज्य में स्थित एक हिम झील है जो अपने किनारे पर पाए गये पांच सौ से अधिक कंकालों के कारण प्रसिद्ध है। यह स्थान निर्जन है और हिमालय पर लगभग 5029 मीटर (16499 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। इन कंकालों को 1942 में …

Read More »

उत्तराखंड का गर्व है बेदनी बुग्याल

बुग्याल हिम रेखा और वृक्ष रेखा के बीच का क्षेत्र होता है। स्थानीय लोगों और मवेशियों के लिए ये चरागाह का काम देते हैं तो बंजारों, घुम्मंतुओं और ट्रैकिंग के शौकीनों के लिए आराम की जगह व कैंपसाइट का। गरमियों की मखमली घास पर सर्दियों में जब बर्फ की सफेद …

Read More »

लैंसडाउन उत्तराखंड का एक खूबसूरत छावनी शहर

पौड़ी। लैंसडाउन उत्तराखण्ड के पौड़ी गढ़वाल जिले में एक छावनी शहर है। उत्तराखण्ड के गढ़वाल में स्थित लैंसडाउन बेहद खूबसूरत पहाड़ी है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 1706 मीटर है। यहां की प्राकृतिक छटा सम्मोहित करने वाली है। यहां का मौसम पूरे साल सुहावना बना रहता है। हर तरफ फैली …

Read More »