Home / aalekh / फूलों की घाटी: जहां कुदरत रहती है

फूलों की घाटी: जहां कुदरत रहती है

चमोली। फूलों की घाटी उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है। इस उद्यान को आमतौर पर सिर्फ फूलों की घाटी के नाम से सम्बोधित किया जाता है। फूलों की घाटी उद्यान 87.50 वर्ग किमी. क्षेत्र में फैला हुआ है। इसे 1982 ई. में राष्ट्रीय उद्यान घोषित कर दिया गया था। नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान और फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान सम्मिलित रूप से विश्व धरोहर स्थल घोषित किये गए हैं।
कहा जाता है कि हनुमान जी संजीवनी बूटी के लिये यहीं पर पधारे थे। फूलों की घाटी भ्रमण के लिये जुलाई, अगस्त व सितंबर के महीनों को सर्वोत्तम माना जाता है। सितंबर में ब्रह्मकमल खिलते हैं। इस घाटी का पता सबसे पहले ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक एस स्मिथ और उनके साथी आरएल होल्डसवर्थ ने लगाया था। जो संंयोग से 1931 में अपने कामेट पर्वत के अभियान से लौट रहे थे। इसकी बेइंतहा खूबसूरती से प्रभावित होकर स्मिथ 1937 में इस घाटी में वापस आये और, 1938 में वैली ऑफ फ्लॉवर्स नाम से एक किताब प्रकाशित करवायी। हिमाच्छादित पर्वतों से घिरा हुआ और फूलों की 500 से अधिक प्रजातियों से सजा हुआ यह क्षेत्र बागवानी विशेषज्ञों या फूल प्रेमियों के लिए एक विश्व प्रसिद्ध स्थल बन गया।

About saket aggarwal

Check Also

रुद्रपुर:अटलजी के आदर्शों पर चलने का लें संकल्प

रुद्रपुर। भाजपा जिला इकाई द्वारा पूर्व अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी गई। इसके लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *