Home / Breaking News / किलवेस्ट मशीन साफ करेगी रिस्पना की गंदगी, सीएम ने किया वेस्ट मशीन और एप का शुभारंभ

किलवेस्ट मशीन साफ करेगी रिस्पना की गंदगी, सीएम ने किया वेस्ट मशीन और एप का शुभारंभ

देहरादून। यूसर्क और ईको टास्क फोर्स की ओर से गठित जूनियर ईको टास्क फोर्स ने रिस्पना नदी के पुनर्जींविकरण अभियान की शुरुआत कर दी है। शुक्रवार को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसका उद्घाटन किया। ‘रिस्पना से ऋषिपर्णा नदी कार्यक्रमÓ के तहत यहां सफाई के लिए वेस्ट मशीन की स्थापना की गई है। साथ में एक मोबाइल एप का भी लॉन्च किया गया। विधानसभा के निकट राजकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम ईको टास्क फोर्स और उत्तराखंड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान केन्द्र (यूसर्क) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया गया था।
इस दौरान सीएम ने रिस्पना नदी में किल वेस्ट मशीन और रिवाईविंग रिवर रिस्पना मोबाइल एप का शुभारम्भ किया। इस मशीन के माध्यम से एक घंटे में 100 किलो कूड़े का निस्तारण किया जा सकेगा। जबकि, एप के माध्यम से समय-समय पर रिस्पना नदी से संबंधित जानकारी प्राप्त हो सकेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि देहरादून के पर्यावरण संरक्षण में रिस्पना नदी का अपना महत्व है। इस नदी का पुनर्जीवीकरण एवं सौन्दर्यीकरण राज्य सरकार की प्राथमिकता है। स्वच्छता की इस पहल में उन्होंने सभी से सहभागी बनने की अपेक्षा की है। उन्होंने कहा कि एक ही दिन में नदी के उद्गम से अन्तिम छोर तक स्वच्छता अभियान चलाने के लिये बहुत बड़े पैमाने पर लोगों के सहयोग की जरूरत है। इसके लिये हर आयु वर्ग के लोगों को अपना सक्रिय सहयोग देना पड़ेगा। बच्चों को स्वच्छता अभियान एवं पर्यावरण संरक्षण से जोडऩे के लिये सरकार ने जूनियर ईको टास्क फोर्स का गठन किया है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए भविष्य के जल प्रबंधन पर अभी से विचार करने की जरूरत है। वर्षा जल को एकत्रित करना आवश्यक है।
ईको टास्क फोर्स के कर्नल राणा ने बताया कि रिस्पना नदी के पुनर्जीवीकरण के लिये माइक्रो प्लान बनाया जा रहा है। नदी के कैचमेंट एरिया का एरियल सर्वे भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगस्त-सितम्बर तक रिस्पना नदी काफी अच्छी स्थिति में दिखाई देगी। यूसर्क के निदेशक दुर्गेश पन्त ने कहा कि रिस्पना नदी की थ्री-डी मॉडलिंग और रिवर मॉर्फोलॉजी का काम चल रहा है। किलवेस्ट मशीन की जानकारी देते हुए बताया कि यह एक आधुनिक ईंधन मुक्त सॉलिड वेस्ट डिस्पॉजर है जोकि पूर्णत: ईको फ्रेण्डली और कम लागत वाली है। कार्यक्रम को परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानन्द मुनि, विधायक उमेश शर्मा और किलवेस्ट मशीन के निर्माता लक्ष्मण शास्त्री ने भी सम्बोधित किया।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी: सरकारी अस्पतालों को पीपीपी मोड पर देने का विरोध

नर्सेज की सरकारी नियुक्तियों की मांग, सीएम का फूंका पुतला हल्द्वानी। उत्तराखंड नर्सेज एसोसिएशन सदस्यों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *