Home / Breaking News / नैनीताल:क्रिकेट संघ नहीं बनना दुर्भाग्यपूर्ण : मेहता
नैनीताल में पत्रकारों से बातचीत करते राजीव मेहता।

नैनीताल:क्रिकेट संघ नहीं बनना दुर्भाग्यपूर्ण : मेहता

नैनीताल। ओलम्पिक संघ के महासचिव राजीव मेहता ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि देहरादून में रविवार को हुआ अंतर्राष्ट्रीय मैच उत्तराखंड के लिये ऐतिहासिक दिन रहा। प्रदेश में पहला अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम को आईसीसी ने अपनी मान्यता दे दी है। बीसीसीआई को अब खिलाडिय़ों की ओर भी ध्यान देना होगा। उन्होंने आशा प्रकट की है कि भविष्य में देहरादून में आईपीएल मैच खेले जायेंगे। मेहता ने वन स्टेट वन यूनिट की तर्ज पर उत्तराखंड क्रिकेट संघ नहीं बनने पर अफसोस जाहिर करते हुये कहा कि आज यहां पांच क्रिकेट एसोसियेशन बन चुके हैं और इनमें अंदरखाने वर्चस्व की लड़ाई चल रही है जो दुर्भाग्यपूर्ण है।
उन्होंने कहा कि स्टेडियम को मान्यता तभी मिलती है जब उसकी 72 यार्ड की बाउंड्री हो। उन्होंने कहा कि एक आईपीएल मैच में 50 करोड़ तक की आय होती है जिससे स्टेडियम का रख-रखाव किया जा सकता है। इस मैदान में भविष्य में और आईपीएल व अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले जायेंगे। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैदान का बनना गौरव की बात है। यह स्टेडियम पिछली सरकार ने 2014 में बनाना शुरू किया जिसकी लागत 250 करोड़ रुपये आयी। वर्तमान सरकार ने अंतर्राष्टï्रीय मैच कराने के लिये जो प्रयास किये हैं वह सराहनीय हैं। नैनीताल में शेरवुड कालेज के वार्षिकोत्सव में हिस्सा लेने आये राजीव मेहता पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। मेहता ने वन स्टेट वन यूनिट की तर्ज पर उत्तराखंड क्रिकेट संघ नहीं बनने पर अफसोस जाहिर करते हुये कहा कि आज यहां पांच क्रिकेट एसोसियेशन बन चुके हैं और इनमें अंदरखाने वर्चस्व की लड़ाई चल रही है। मेहता ने बताया कि आईओसी से मान्यता प्राप्त क्रिकेट संघ को सरकार द्वारा पचास करोड़ की राशि दी जाती है। इसी राशि के लालच में पांच-पांच संघ बन चुके हैं और यह मामला उत्तराखंड हाई कोर्ट में पहुंच गया है। यदि एक स्टेट एक यूनिट उत्तराखंड में होती तो आज प्रदेश के क्रिकेट खिलाडिय़ों को बाहरी राज्यों का मुंह नहीं देखना पड़ता इसलिये 18 साल में एक क्रिकेट एसोसियेशन नहीं बनना दुर्भाग्य की बात है। उन्होंने की प्रदेश में 18 साल से क्रिकेट की स्थिति बहुत ही दयनीय रही इसमें हम सब का दोष है। उन्होंने खिलाडिय़ों को सुविधा नहीं देने पर भी अफसोस जाहिर करते हुये कहा कि सरकार की ओर से कैंप व कोचिंग की सुविधा दी जानी चाहिये थी। लेकिन जिला स्तर पर ऐसी कोई सुविधायें नहीं दी गई हैं। पत्रकार वार्ता में उनके साथ हाई कोर्ट के अधिवक्ता आरएस नौटियाल भी मौजूद थे।

 

नैनीताल की दुर्दशा से दुखी मेहता
नैनीताल। राजीव मेहता ने राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी देने वाले नैनीताल में कोचिंग व कैंप की सुविधा सरकार द्वारा नहीं दिये जाने पर भी अफसोस जाहिर किया। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि प्रत्येक जिले में सरकार खेल सुविधाओं की व्यवस्था करे। नैनीताल के खेल मैदान को कार पार्किंग बनाने को अनुचित बताते हुये उन्होंने कहा कि इससे खेल गतिविधियां रुक गई हैं। स्टेडियम में पार्किंग बनाने का कोई औचित्य नहीं है। शासन प्रशासन की ओर से इस समस्या का समाधान निकालने का सतही प्रयास नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नैनीताल में मैकेनिकल पार्किंग बनायी जा सकती है। यदि शासन प्रशासन में दृढ इच्छाशक्ति है तो पार्किंग की समस्या का चुटकी में समाधान हो सकता है लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा है।

About saket aggarwal

Check Also

एयरपोर्ट पर नम आंखों से दी मुख्यमंत्री ने शहीद को श्रद्धांजलि

विस अध्यक्ष समेत सैकड़ों लोगों ने किया शहीद की शहादत को सलाम जौलीग्रांट/ब्यूरो। जम्मू-कश्मीर में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *