Breaking News
Home / Crime / श्मशान पर संकट, सीपैट प्रशासन ने श्मशान हटाने को कहा

श्मशान पर संकट, सीपैट प्रशासन ने श्मशान हटाने को कहा

क्षेत्रवासी बोले पहले नए श्मशान की व्यवस्था करें फिर पुराने को हटाएं

डोईवाला/ब्यूरो। डोईवाला में सौंग नदी पुल के पास स्थित सीपैट संस्थान के कारण श्मशान पर संकट खड़ा हो गया है।

सीपैट प्रशासन ने नगर प्रशासन डोईवाला को पत्र लिखकर वहां से श्मशान हटाने को कहा है। जिससे क्षेत्रवासियों में शासन और प्रशासन के प्रति रोष काफी बढ गया है। इसी मामले को लेकर किसान सभागार डोईवाला में व्यापारियों और क्षेत्रवासियों की एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें कहा गया कि यदि सीपैट संस्थान के विस्तार के कारण श्मशान हो हटाया जा रहा है तो पहले शासन और प्रशासन सौंग नदी के पास ही दूसरे स्थान पर श्मशान का निर्माण करे। यदि बिना दूसरी जगह श्मशान के निर्माण के पुराने श्मशान को तोड़ा गया तो इससे लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत होंगी। जिसकी सारी जिम्मेदारी सरकार और प्रशासन की होगी।

त्रिघराट सभासद गौरव मलहोत्रा ने कहा कि क्षेत्र के अधिकांश लोग सौंग नदी के तट पर मृतकों का अंतिम संस्कार करते हैं। बारिश या खराब मौसम में नदी किनारे बनाए गए श्मशान में अंतिम संस्कार किया जाता है। इसलिए इस श्मशान को हटाने से पहले दूसरे स्थान पर भूमि की व्यवस्था करके श्मशान का निर्माण किया जाना चाहिए। कहा कि सीएम त्रिवेंद्र रावत ने डोईवाला से चुनाव लड़ते हुए अपने चुनावी घोषणापत्र में कहा था कि वो भव्य श्मशान का निर्माण करवाएंगे। कमल अरोड़ा, अनिल घई, महेश रावत, राजेश श्रंगारी ने कहा कि धार्मिक भावनाओं को देखते हुए श्मशान के विवाद को बड़ा बनने से पहले ही सुलझा लेना चाहिए। इसी मामले को लेकर डोईवाला के लोग प्रदर्शन भी करेंगे। बैठक में रमेश वासन, सरदार रिंकू, अवतार सिंह, अनिल सिंघल, प्रदीप सिंघल, मदन आनंद आदि शामिल रहे।

उलझा हुआ है श्मशान का मामला

डोईवाला। डोईवाला के अधिशासी अधिकारी विजेंद्र प्रताप सिंह चौहान ने कहा कि इस संबध में सीपैट से एक पत्र आया है। लेकिन जब वीडीओ से श्मशान के बारे में पूछा गया तो उन्होने जवाब दिया कि काफी समय पहले श्मशान नगर प्रशासन द्वारा बनवाया गया था। जबकि वो जमीन नगर प्रशासन की नहीं थी। लोगों की मांग जायज है कि श्मशान को हटाने से पहले कोई दूसरी व्यवस्था की जाए। इसके लिए शासन-प्रशासन से सहयोग मांगा जाएगा। ये कार्य अकेले नगर प्रशासन नहीं कर सकता है।

About madan lakhera

Check Also

देहरादून: शाह की ‘क्लास’ के लिए कड़ा होमवर्क

मदन मोहन लखेड़ा,देहरादून। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का दो फरवरी को दून का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *