Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / छुट्टियों में अपने बच्चों को रखें ऑनलाइन सुरक्षित!

छुट्टियों में अपने बच्चों को रखें ऑनलाइन सुरक्षित!

मनोचिकित्सक डॉ ज्योति ने साइबर अपराधों से बचने के दिए टिप्स
बच्चों की डिजिटल सुरक्षा में अभिभावक ज्यादा प्रभावी
देहरादून। गर्मियों की छुट्टियां शुरू हो गयी हैं और बढ़ते तापमान में बच्चे घरों के अंदर और इंटरनेट पर ही ज्यादा से ज्यादा समय व्यतीत करते हैं। हालांकि, साइबर दुनिया में सीखने के लिए बहुत सारी सकारात्मक गतिविधियां और चीजें उपलब्ध हैं, लेकिन यह कुछ जोखिमों के साथ आती हैं, विशेेषकर बच्चों के लिए। हाल ही के माइक्रोसॉफ्ट डिजिटल सिविलिटी इंडेक्स के अनुसार, किशोरों ने वयस्कों की तुलना में बहुत अधिक और लगातार ऑनलाइन जोखिमों को रिपोर्ट किया। रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि माता-पिता अपने बच्चों की डिजिटल सुरक्षा में सबसे ज्यादा प्रभावी होते हैं, क्योंकि अपने को सुरक्षित रखने के लिए किशोरों की एक बड़ी संख्या का विश्वास अपने माता-पिता में माना गया।
वरिष्ठ मनोचिकित्सक डॉज्योति कपूर मदान के अनुसार, माता-पिता को साइबर दुनिया में अपने बच्चे के आसपास के बारे में और अधिक चौकस और सतर्क रहने की आवश्यकता है। उन्हें ऑनलाइन भावनात्मक दुव्र्यवहार के कारण अपने बच्चे के व्यवहार में आये परिवर्तन पर ध्यान रखना चाहिए और निवारक उपाय अपनाने चाहिए। एक तरफ उन्हें अपने बच्चों को उपकरणों और इंटरनेट तक पहुंच सक्षम बनाने की आवश्यकता है, जिससे वे समय के साथ तालमेल और प्रतिस्पर्धा रख सकें, दूसरी तरफ उन्हें यह भी सुनिश्चित करना चाहिए, कि ये सारे उपकरण श्रेष्ठ सुरक्षा विशेेषताओं से सुसज्जित हों। डा ज्योति ने इस गर्मियों में े बच्चों के लिए साइबर स्पेस को सुरक्षित और अधिक आनंददायक बनाने के के लिए सुरक्षित ऑनलाइन को कुछ टिप्स भी दिए हैं।
मनोचिकित्सक डा ज्योति के अनुसार, अपने बच्चों के साथ कम उम्र से ही ऑनलाइन सुरक्षा के बारे में चर्चा शुरू करें। यह जरूरी है कि माता-पिता अपने बच्चों के साथ डिजिटल दुनिया में उनकी यात्रा शुरू होने से पहले उनके साथ एक खुली चर्चा करें। माता-पिता यह जांचें और जागरूक रहें कि उनका बच्चा इंटरनेट की लत का शिकार न हो जाये।
अपने बच्चे को कोई भी उपकरण उपयोग के लिए देने से पहले यह जरूरी है कि वह सभी तरह से सिक्योर हो। बच्चे को किसी भी उपकरण का एडमिन ना बनाएं, ऑपरेटिंग सिस्टम का नवीनतम वर्जन इन्स्टॉल करें। यह सुनिश्चित करें कि वह नियमित रूप से अपडेट हो, वायरस प्रोटेक्शन जांचें और अपडेट करें। वेबसाइट्स और ऐप्स पर प्राइवेसी सेटिंग्स को इनेबल करें और सभी उपकरणों पर जियो लोकेशन सेटिंग्स को डिसेबल करें। पासवर्डए दरवाजों की भांति, प्रवेश और सुरक्षा का पहला स्तर होता है और एक मजबूत पासवर्ड चुनना बहुत महत्वपूर्ण है। लंबे वाक्य जिसमें छोटे और बड़े केस के लैटर्स, अंक और सिमबल शामिल हों, आदर्श होते हैं और इन्हें जटिल नहीं होना चाहिए।
वायरस और स्पाइवेयर बहुतायत में होते हैं, इसीलिए कहीं भी क्लिक करने से पहले सोचें। अपना व्यक्तिगत विवरण साझा करने से बचें। अपने बच्चों को उनके सोशल मीडिया अकाउंट में अन्जान लोगों को जोड़े जाने के जोखिम के बारे में शिक्षित करना बहुत आवश्यक है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी व्यक्तिगत जानकारी बिना किसी प्राईवेसी फि ल्टर और सिक्योरिटी चैक के साझा करने से आपका बच्चा परेशानी में पड़ सकता है। माता-पिता को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बच्चे गुस्साए निराषा या अत्यधिक भावनात्मक होने की स्थिति में सोशल मीडिया का उपयोग ना करें। पेरेन्टल कन्ट्रोल का उपयोग करें, यह माता-पिता के लिए है। विंडोज 10 उपकरणों पर पेरेन्टल कन्ट्रोल का उपयोग माता.पिता और बच्चों द्वारा एक सहयोगी वातावरण का आनंद उठाने में मदद करता है। यह आपके बच्चे को ऑनलाइन सुरक्षा और अच्छी स्क्रीन टाइम आदतें प्रदान करता है जिससे माता-पिता ब्राउजिंग समय की सीमा निर्धारित कर सकते हैं।

About madan lakhera

Check Also

देहरादून:नहीं रहे प्रखर पत्रकार चारु चंद्र चंदोला

देहरादून। उत्तराखंड के पुरोधा साहित्यकार एवं पत्रकार चारू चंद चंदोला अब हमारे बीच नहीं रहे। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *