Breaking News
Home / Breaking News / जहरीली होने लगी है दून की फिजा, हवा में बढ़ रहा पीएमए 2.5 और पीएम 10 खतरा

जहरीली होने लगी है दून की फिजा, हवा में बढ़ रहा पीएमए 2.5 और पीएम 10 खतरा

देहरादून। देहरादून की फिजाओं में खतरनाक पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा लगातार बढ़ रही है। पिछले 6 सालों में दून की हवाओं में प्रदूषण दो गुणा बढ़ गया है और यही स्थिति रही तो वर्ष 2022 तक देहरादून की हवाएं सांस लेने लायक भी नहीं रह जाएगी। यह निष्कर्ष देहरादून में काम करने वाले थिंक टैंक गति फाउंडेशन का है। फाउंडेशन ने लगातार 10 दिन तक शहर के 10 अलग-अगल स्थानों में एक खास मशीन के जरिये पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा के अध्ययन करने के बाद यह दावा किया है। इस अध्ययन की जानकारी फाउंडेशन के संस्थापक अनूप नौटियाल ने बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस में दी।

बुधवार को उत्तरांचल प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में अनूप नौटियाल ने बताया कि उनके फाउंडेशन ने पीएम 2.5 और पीएम10 का 99 प्रतिशत सही मेजरमेेंट बताने वाली एक खास मशीन के जरिये 1 से 10 फरवरी तक सुबह और शाम 10 जगहों पर प्रदूषण मापा। जिन जगहों में माप ली गई उनमें बल्लीवाला चौक, सहारनपुर चौक, दून हॉस्पिटल, रिस्पना पुल, आईएसबीटी, रायपुर, करनपुर, दिलाराम चौक, घंटाघर और बिंदाल पुल शामिल हैं। इन सभी जगहों पर सुबह और शाम के समय प्रदूषण का स्तर मापा गया। इस अध्ययन में पीएम 2.5 की कुल 45 रीडिंग ली गई। मात्र 6 रीडिंग यानी 10 प्रतिशत ही मानक या उससे कम यानी 60 से नीचे पाई गई। 85 प्रतिशत रीडिंग में पीएम 2.5 मानक से ज्यादा पाया गया। 22 रीडिंग में ये कण 60 से 120 के बीच, 8 में 120 से 180 के बीच, 6 में 180 से 240 के बीच, 1 में 240 से 300 के बीच और 2 रीडिंग में 300 से ज्यादा पाये गये। पीएम10 का मानक 100 है, यानी हवा में 100 से ज्यादा पीएम-10 का होना हानिकारक है, लेकिन दून में 44 रीडिंग में से मात्र 11 में ही पीएम-100 मानक या उससे कम पाया गया। 75 रीडिंग में यह 100 से 200 के बीच, 9 में 200 से 300 के बीच, 5 में 300 से 400 के बीच और 2 रीडिंग में 400 से ज्यादा पाया गया। इसका अर्थ यह हुआ कि केवल 25 प्रतिशत रीडिंग में ही पीएम-10 मानक के भीतर पाया गया। 75 प्रतिशत मामलों में यह मानक से अधिक निकला। नौटियाल ने बताया कि सहारनपुर चौक और आईएसबीटी की स्थिति सबसे खराब है।

गति फाउंडेशन ने दावा किया कि देहरादून में पीएम 2.5 को पहली बार मापा गया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड केवल पीएम-10 का ही मेजरमेंट करता है। अनूप नौटियाल ने लोकसभा में केन्द्रीय मंत्री डॉ हर्षबर्धन के एक बयान का हवाला देते हुए कहा कि देहरादून पर्यावरण की दृष्टि से देश में 5 सर्वाधिक संवेदनशील शहरों में शामिल है। इन शहरों में अलवर, आगरा, फिरोजाबाद, मथुरा और देहरादून शामिल हैं। उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि केन्द्र सरकार ने जिन 100 शहरों में प्रदूषण के खिलाफ अभियान चलाने का ऐलान किया हैए उनमें देहरादून शामिल नहीं है।

About saket aggarwal

Check Also

अस्पताल की छत से कूदी महिला, हालत गंभीर

इलाज के बाद भी मां नहीं बनने पर थी परेशान देहरादून। दून स्थित सीएमआई अस्पताल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *