Home / Breaking News / देहरादून एयरपोर्ट ने हिमालयी राज्यों को पीछे छोड़ा, 2017 में आए रिकार्ड तोड़ हवाई पैसेंजर

देहरादून एयरपोर्ट ने हिमालयी राज्यों को पीछे छोड़ा, 2017 में आए रिकार्ड तोड़ हवाई पैसेंजर

चंद्रमोहन कोठियाल, डोईवाला। वर्ष 2017 में देहरादून एयरपोर्ट ने अब तक के अपने सभी हवाई पैसेंजरों के रिकार्ड तोड़ दिए हैं। 2017 में एयरपोर्ट पर 9 लाख से अधिक हवाई यात्रियों ने आवाजाही कर नया रिकार्ड बनाया है।
2015-16 में देहरादून एयरपोर्ट पर कुल 4,76,206 हवाई यात्रियों ने आवाजाही की थी। लेकिन 2016-17 में 31 दिसंबर से कुछ दिन पहले तक कुल 8,97,445 हवाई यात्रियों ने आवाजाही करते हुए नए रिकार्ड बनाया है। यही कारण है कि देहरादून एयरपोर्ट ने हवाई पैसेंजरों के मामले में देश के सभी हिमालयी राज्यों को पीछे छोड़ दिया है। देहरादून एयरपोर्ट पूरे देश में सबसे तेजी से उभरता हुआ एयरपोर्ट भी बन चुका है। बंपर हवाई यात्रियों के कारण एयरपोर्ट टर्मिनल छोटा पडऩे लगा है। बंपर हवाई यात्रियों के कारण एयरपोर्ट पर कई बार ऐसी स्थिति आ चुकी है कि एयरपोर्ट प्रशासन को हवाई यात्रियों के बैठने के लिए कुर्सियां बाहर से मंगानी पड़ी हैं। एयरपोर्ट पर 88.45 प्रतिशत यात्री बढ़े हैं।

हवाई पैसेंजरों के मामले में दून एयरपोर्ट ने देश के कई एयरपोर्ट को पीछे छोड़ दिया है। 2018 में कुछ और नई फ्लाइटें आने की संभावनाएं हैं। जिससे पैसेंजरों में और बढ़ोत्तरी होगी। -विनोद कुमार शर्मा, एयरपोर्ट निदेशक
2015-16 में एयरपोर्ट पर 6,460 शेड्यूल फ्लाइट और 2,134 नॉन शेड्यूल फ्लाइट लैंड हुई थी। जबकि वर्ष 2016-17 में देहरादून एयरपोर्ट पर 8,970 शेड्यूल फ्लाइटें और कुल 2,092 फ्लाइटें लैंड हुई हैं। दिल्ली, मुंबई, बंगलुरू, जम्मू, लखनऊ आदि शहरों से कुल 22 फ्लाइटें प्रतिदिन एयरपोर्ट पर लैंड हो रही हैं। पैसेंजरों में बढ़ोत्तरी के कारण ही एयरपोर्ट पर नए टर्मिनल को मंजूरी दी गई है। कुल मिलाकर बंपर पैसेंजरों के कारण 2017 में देहरादून एयरपोर्ट के इतिहास में एक सुनहरा अध्याय जुड़ गया है। एयरपोर्ट सूत्रों का कहना है कि एयरपोर्ट पर 2017 में बंपर हवाई यात्री आए हैं।

About saket aggarwal

Check Also

एनींग ने तीसरा अखिल भारतीय गोल्फ टूर्नामेंट जीता

सेलाकुई इंटरनेशनल स्कूल के गोल्फ कोर्स में हुआ आयोजन देहरादून। सेलाकुई इंटरनेशनल स्कूल के एनींग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *