Breaking News
Home / Breaking News / नोटबंदी और जीएसटी ने ली पांडेय की जान: रावत

नोटबंदी और जीएसटी ने ली पांडेय की जान: रावत

देहरादून। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का मानना है कि हल्द्वानी के कारोबारी प्रकाश पांडेय की जान नोटबंदी व जीएसटी की वजह से गई है। उनका कहना है कि ट्रांसपोर्ट व्यवसायी प्रकाश पांडे की मौत के लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि जीएसटी ने जहां आम आदमी की आर्थिकी की कमर तोड़ी है वहीं प्रदेश के खजाने पर भी इसका असर पड़ा है।
प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकारों से वार्ता करते हुए पूर्व सीएम हरीश रावत ने प्रकाश पांडेय की मौत को दुखद व शर्मनाक बताया। उन्होंने कहा कि मृत्यु से पूर्व प्रकाश के बयान पर ध्यान देने से स्पष्ट हो जाता है कि जीएसटी के कारण उसका कारोबार चौपट हो गया था। प्रकाश जिस निम्न मध्यम वर्ग से आता है, उस वर्ग के राज्य में बड़ी संख्या में छोटे-मझौले कारोबारी हैं। आशंका यह भी है कि जिस विपरीत स्थिति के कारण प्रकाश पांडेय ने आत्महत्या का रास्ता अपनाया, उस रास्ते पर अन्य लोग भी जा सकते हैं। इसलिए सरकार को ऐसी अप्रिय दुख:द स्थिति से बचने के लिए 50 लाख रुपए से कम टर्न ओवर वाले कारोबारियों को जीएसटी के दायरे से बाहर रखने की व्यवस्था करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जीएसटी के प्रभावों पर अध्ययन कर आवश्यक कदम उठाए जाएं। रावत ने कहा कि जिन उद्योगों को उत्पाद शुल्क में सौ फीसदी छूट है, उन्हें जीएसटी लागू होने के बाद 60 प्रतिशत रिम्बर्समेंट ही हो रहा है।
पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि जीएसटी लागू हो जाने के बाद प्रदेश के राजस्व में भी लगभग 50 प्रतिशत की कमी आयी है। अभी तक यही कह कर काम चलाया जा रहा था कि हरीश रावत खजाना खाली करे गए। आखिर इससे कब तक काम चलेगा। कर्ज लेकर कब तक काम चलाएंगे। जीएसटी के कारण हो रही राजस्व हानि की पूर्ति 5 साल तक तो केन्द्र सरकार कर देगी, लेकिन उसके बाद क्या होगा। रावत ने कहा कि हम जब भी विकास के मुद्दे उठाते हैं, तो वे कहते हैं खजाना खाली है। खनन से प्राप्त होने वाले राजस्व में 40 प्रतिशत की गिरावट आयी है। उन्होंने सवाल किया कि सरकार से हटने के बाद बालू भी क्या हरीश रावत अपने साथ ले गए! आबकारी से जिन क्षेत्रों में अच्छा राजस्व आता था वहां चंडीगढ़ ब्रांड की शराब बिकवाई जा रही है। अगले वित्तीय वर्ष में भी यही स्थिति रही तो राज्य की अर्थ व्यवस्सा अस्थिर हो जाएगी। पत्रकार वार्ता के दौरान विधायक मनोज रावत, जोत सिंह बिष्ट, प्रवक्ता सुरेन्द्र कुमार भी मौजूद रहे।

About saket aggarwal

Check Also

फिल्मी सितारों से चहका तुलाज इंस्टीट्यूट

रमेश सिप्पी, शरमन जोशी ने कि छात्रों से ख़ास मुलाक़ात देहरादून। राजधानी में चल रहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *