Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / मधुमेह बढ़ाता है दिल के दौरे का खतरा

मधुमेह बढ़ाता है दिल के दौरे का खतरा

सबसे अच्छा इलाज पाना मरीज का हकः डॉ. प्रीति शर्मा
-सीएडी से ग्रस्त मधुमेह के मरीजों के लिए सर्वश्रेष्ठ उपचार विकल्प
-दिल के दौरे से पीड़ित लगभग 45 प्रतिशत रोगियों में डायबिटीज मेलिटस होता है।
-मधुमेह रहित वयस्कों की तुलना मंे मधुमेह से पीड़ित वयस्कों के हृदय रोग से मौत होने की आशंका दो से चार गुना अधिक होती है।
देहरादून। मधुमेह का दिल के दौरे से गहरा संबंध है। हाल में किये गए अध्ययन से भी इस बात की पुष्टि हुई है। इस अध्ययन के बारे में मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, देहरादून की एसोसिएट डायरेक्टर डॉ. प्रीति शर्मा ने बताया कि दिल के स्वास्थ्य पर मधुमेह के तीव्र प्रभाव को इस अध्ययन से अच्छी तरह से समझा जा सकता है जिसमें पाया गया है कि दिल के दौरे से पीड़ित लगभग आधे रोगियों में मधुमेह होता है और इन मरीजों में स्ट्रोक, पेरिफेरल आर्टरी डिजीज, हार्ट फेल्योर और एट्रियल फाइब्रिलेशन का अधिक खतरा होता है। डा प्रीति शर्मा मधुमेह पर मैक्स अस्पताल की ओर से आयोजित जागरुकता कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं।

जागरुकता कार्यक्रम में बोलतीं मैक्स अस्पताल देहरादून की एसोसिएट डायरेक्टर डा प्रीति शर्मा

डॉ. प्रीति शर्मा ने बताय्ाा एंजियोप्लास्टी प्रक्रिया में स्टेंट की गुणवत्ता बहुत महत्वपूर्ण है, विशेष रूप से मधुमेह रोगियों के लिए और सबसे अच्छा उपचार विकल्प स्टेंट का उपयोग करना है, जिसमें 0 प्रतिशत एसटी दर्ज दी गई है और जो मधुमेह के साथ-साथ सीएडी से पीड़ित रोगियों समेत लगभग सभी रोगियों में उपयोग करने के लिए सबसे सुरक्षित है। सीएडी के साथ-साथ मधुमेह से पीड़ित रोगियों के प्रबंधन के लिए दवा से लेकर इंटरवेंशन प्रक्रिया तक कई उपचार विकल्प उपलब्ध हैं, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण यह है कि यदि आपको मधुमेह है तो आप अपने रक्त ग्लूकोज के स्तर, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखें ताकि कोरोनरी हृदय रोग और अन्य कार्डियोवैस्कुलर बीमारियांे के आपके जोखिम को कम करने में मदद मिल सके। समय के साथ मधुमेह में रक्त ग्लूकोज का उच्च स्तर रक्त वाहिकाओं और नसों को नुकसान पहुंचा सकता है जो हमारे दिल और रक्त वाहिकाओं को नियंत्रित करते हैं। जिस व्यक्ति को जितना लंबे समय तक मधुमेह होता है, उसे दिल की बीमारी होने की संभावना उतनी ही अधिक होती है। मधुमेह से पीड़ित लोगों में मधुमेह रहित लोगों की तुलना में कम उम्र में ही हृदय रोग होने की प्रवृत्ति होती है।
यह पाया गया है कि मधुमेह नियंत्रण का कोरोनरी धमनी रोग की गंभीरता से भी संबंध है। जिन मरीजों ने मधुमेह पर नियंत्रण नहीं रखा उनमें दिल के दौरे से पहले एचबीए 1 सी 9 से अधिक था, दिल में कई जगह रुकावट थी और एचबीए 1 सी 8 से कम वाले रोगियों की तुलना में अधिक गंभीर था।

About madan lakhera

Check Also

सूर्यधार बांध डिजाइन को आईआईटी कानपुर ने दी स्वीकृति

26 करोड़ की लागत से बनेगा बांध, अगले हफ्ते से कार्य शुरू सीएम कोठियाल डोईवाला। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *