Home / Breaking News / नैनीताल: पांच दिन बाद भी पालिका के पास नहीं पहुंचा डीएम का आदेश

नैनीताल: पांच दिन बाद भी पालिका के पास नहीं पहुंचा डीएम का आदेश

लापरवाही

पार्किंगों व लेक ब्रिज टोल टैक्स बैरियर में वित्तीय अनियमितताओं का मामला

उत्तरांचल दीप ब्यूरो, नैनीताल। नगर पालिका परिषद नैनीताल की विभिन्न पार्किंगों व लेक ब्रिज टोल टैक्स बैरियर में वित्तीय अनियमितताओं को लेकर जिलाधिकारी सविन बंसल की ओर से समस्त पार्किंग स्थलों व टोल टैक्स का अनुबंध तत्काल समाप्त किए जाने के आदेश जारी किए गये थे। मामले में नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी अशोक कुमार वर्मा ने कहा है कि अभी पालिका दफ्तर को जिलाधिकारी की ओर से जारी आदेश की प्रति अभी तक नहीं मिली है। डीएम कार्यालय व पालिका कार्यालय दोनों हाईटेक हैं। लेकिन आश्चर्य यह है कि पांच दिन बाद भी डीएम के आदेश पालिका तक नहीं पहुंचे हंै। पालिका ईओ ने कहा कि जैसे ही पालिका को आदेश की प्रति प्राप्त होगी शीघ्र कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। मालूम हो कि जिलाधिकारी की ओर से बीती सात अक्टूबर (सोमवार) को नगर पालिका परिषद के अधिशासी अधिकारी को कार्रवाई करने के लिए पत्र भेज दिया गया है। लेकिन ताजुब्ब की बात यह है कि चार दिन बीते जाने के बाद भी आदेश की प्रति कलेक्ट्रेट से पालिका के दफ्तर की मात्र दो किलोमीटर की दूरी तय नहीं कर पाई है। जबकि वर्तमान युग में संसाधनों की कोई कमी नहीं है लेकिन आज के इस हाईटेक युग में भी मात्र दो किलोमीटर की दूरी तय करने में किसी आदेश को चार दिन का समय लग गया, यह अपने आप में बहुत बड़ा सवाल है। जब मामले को लेकर पालिका के अधिशासी अधिकारी अशोक कुमार वर्मा से नगर के पत्रकार मिलने गए तो उन्होंने पूरी तरह से डीएम की ओर से जारी पत्र के आदेश की प्रति मिलने से इंकार कर दिया। अलबत्ता उन्होंने कहा कि जब पत्र उन्हें हासिल हो जाएगा तो वह तुरंत नियमानुसार कार्रवाई करेंगे।

उगाही में गोलमाल का है मामला

नैनीताल।शहर में पालिका द्वारा संचालित विभिन्न पार्किंगों एवं लेक ब्रिज टोल टैक्स बैरियर में ठेकेदारों द्वारा की जा रही बड़ी गड़बड़ी की शिकायत सेवानिवृत्त सहायक निदेशक इंटेलीजेंस ब्यूरो गृह मंत्रालय भारत सरकार अरूण कुमार साह द्वारा जिलाधिकारी सविन बंसल से पत्र भेजकर की थी। जिस पर जिलाधिकारी बंसल द्वारा ठेकेदारों द्वारा की जा रहीं वित्तीय अनियमितताओं की जांच के लिए अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठित की गई। कमेटी में मुख्य कोषाधिकारी तथा मुख्य कृषि अधिकारी भी शामिल रहे। समिति की प्राप्त रिपोर्ट में बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितताएं उजागर हुई हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि लेकब्रिज टोल टैक्स बैरियर नैनीताल, बीडी पांडे, अण्डा मार्केट, बारापत्थर, फ्लैट मैदान मल्लीताल पार्किंग के ठेकेदारों द्वारा वित्तीय अनियमितताएं करते हुए सरकार को राजस्व की हानि पहुंचाई है।

कानून व्यवस्था भी बिगडऩे की संभावना

नैनीताल। समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि टोल टैक्स व पार्किंग ठेकेदार द्वारा बरती जा रही वित्तीय अनियमितता एवं नगर पालिका परिषद की उदासीनता एवं लापरवाही से सरकार को बड़े पैमाने पर राजस्व की क्षति हुई है। इस कृत्य से बाहर से आने वाले पर्यटकों के समक्ष जिला प्रशासन, प्रदेश सरकार की ही नहीं वरन सम्पूर्ण देश की छवि धूमिल हो रही है जो कि नैनीताल शहर के पर्यटन के हित में उचित नहीं है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि पार्किंग व टोल टैक्स बैरियर में ठेकेदार के कारिंदे सैलानियों से अभद्रता ही नहीं बल्कि मारपीट भी करते हंै। इससे न केवल शांति भंग होती है बल्कि कानून व्यवस्था भी बिगडऩे की पूरी संभावना बनी रहती है।

About saket aggarwal

Check Also

आईपीएल से पहले कुमाऊं के क्रिकेटर अवनीश को मुंबई इंडियंस का बुलावा

टीम चयन के ट्रायल में हिस्सा लेगा काशीपुर का युवा हल्द्वानी। उत्तराखंड में क्रिकेट में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *