Home / Breaking News / डोईवाला: ट्रेन से हाथियों की मौत रोकने के लिए कवायद शुरू

डोईवाला: ट्रेन से हाथियों की मौत रोकने के लिए कवायद शुरू

डोईवाला। रेलवे ट्रैक पर हाथियों की लोकेशन जानने के लिए सेंसर लगाए जाएंगे। राजाजी राष्टï्रीय पार्क में कांसरों रेंज से इसकी शुरुआत की जाएगी। भारत सरकार के निर्देश पर वाइल्ड लाइफ और वल्र्ड वाइड फंड से जुड़ी हुई 6 सदस्य टीम ने वाइल्ड लाइफ के विभास पांडू के नेतृत्व में आज कांसरों रेंज में सेंसर लगाने के लिए सर्वे कर रिपोर्ट तैयार की है। इस रिपोर्ट को भारत सरकार के पास भेजा जाएगा, मंजूरी मिलने के बाद कांसरों रेंज में सेंसर लगाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। सेंसर लगाए जाने के बाद रेलवे ट्रैक पर हाथियों के आने से पहले ही रेलवे और वन अधिकारियों को इसकी सूचना मिल जाएगी। जिससे रेलवे ट्रैक पर ट्रेन से हाथियों के साथ होने वाले हादसों को रोकने में मदद मिलेगी।
कांसरों वन रेंज में पिछले कुछ दिनों में ट्रेन से टकराकर कई हाथियों की जान जा चुकी है। मोतीचूर से लेकर कांसरों के बीच अब तक 23 हाथियों की मौत हो चुकी है। कांसरों वन क्षेत्र में हाथियों की मौत को देखते हुए पिछले दिनों केंद्र सरकार ने दिल्ली में एक बैठक आयोजित की थी। जिसके बाद कांसरों में रेलवे ट्रैक पर सेंसर लगाए जाने का फैसला लिया गया था। जिसके बाद सेंट्रल साइंटीफिक इंस्ट्ीयूमेंट आर्गेनाइजेशन चंडीगढ़ से आई संयुक्त टीम ने कांसरों ट्रैक का सर्वे किया है। मौके पर वल्र्ड वाइड फंड के अधिकारी एके सिंह, रेंजर डीपी उनियाल आदि उपस्थित रहे।
ऐसे काम करेंगे सेंसर
डोईवाला। कांसरों वन क्षेत्र में रेलवे ट्रैक के पास 10 सेंसर और कैमरों को लगाया जाएगा। इन कैमरों को सोलर पोल पर लगाया जाएगा। ये सेंसर और कैमरे रेलवे ट्रैक से 30 मीटर की दूरी से हाथियों की लोकेशन ट्रेस करके स्टेशन मास्टर और वन रेंज ऑफिस में सूचना भेजेंगे। जिसके बाद स्टेशन मास्टर अपने वॉकी-टॉकी से ट्रेन चालक को हाथियों की सूचना देंगे। जिससे ट्रेन चालक अपनी गति को कम या ब्रेक लगाएंगे। सेंसरों को जमीन पर भी लगाया जाएगा। जिस पर हाथी का पांव पड़ते ही रेलवे और वन टीम को मैसेज के माध्यम से हाथी की आवाजाही का पता लग जाएगा।
कांसरों वन क्षेत्र में सेंसर लगाने को टीम ने सर्वे किया है। जिसकी रिपोर्ट भारत सरकार को भेजी जाएगी, मंजूरी के बाद सेंसर लगाए जाएंगे। -सनातन, निदेशक राजाजी राष्टï्रीय पार्क

About saket aggarwal

Check Also

तराई-भाबर में निजी बसों का संचालन पूरी तरह ठप

केमू की हड़ताल का तीसरा दिन, समर्थन में आये कुमाऊं भर के निजी बस संचालक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *