Home / Breaking News / हरिद्वार:दस सालों में चार करोड़ रुपये गिरे राजाजी की झोली में

हरिद्वार:दस सालों में चार करोड़ रुपये गिरे राजाजी की झोली में

—सबसे अधिक 67 लाख से अधिक की कमाई अबकी सीजन में हुई
—2008—09 में सबसे कम 18 लाख 13 हजार के करीब हुई
—लेकिन 2008—09 से 2018 तक अधिकांश साल बढा ग्राफ
नवीन पाण्डेय, हरिद्वार। विश्व के पर्यटन मानचित्र पर राजाजी टाइगर रिजर्व का चीला रेंज धाक जमाने लगा है। बाघों की गुर्राहट और हाथियों की चिंघाड ने सैलानियों को अपनी ओर बरस—दर—बरस खींचना शुरू कर दिया है। देश के प्रांतों से सैलानी आकर रोमांचित तो हो ही रहे हैं सात समुंदर पार से आये मेहमान भी चीला रेंज के वन्य जीवों का दीदार सुनकर खुद को आने से रोक नहीं पा रहे हैं। शायद, यही वजह है कि 10 साल में चीला रेंज ने सबसे अधिक सैलानियों के आंकडे और राजस्व को ग्राफ को छू लिया। दस सालों में केवल चीला रेंज आये पयर्टकों ने राजस्व के आंकडे को 15 जून तक 4 करोड 49 लाख से अधिक पहुंचा दिया है।
राजाजी टाइगर रिजर्व बनने के बाद टाइगर रिजर्व का हालांकि प्रचार—प्रसार भी बढा। लेकिन साथ ही बाघों का घरौंदा भी बढा। बाघ का दीदार चीला रेंज में अमूमन सैलानियों को होने लगा। यह खबर देश और विदेश के कोने—कोने तक विभिन्न माध्यमों से जाने लगी। लिहाजा राजाजी टाइगर रिजर्व के चीला रेंज में सैलानियों की साल—दर—साल आमद बढने लगे और राजाजी के राजस्व में भी इजाफा होने लगा।

साल भारतीय विदेशी धनराशि
2008—09— 16596 1892 18 लाख 13 हजार
2009—10— 12434 1893 31 लाख 14 हजार
2010—11— 13161 1751 39 लाख 27 हजार
20011—12— 17207 1643 46 लाख 42 हजार
2012—13— 16131 1239 41 लाख 51 हजार
20013—14— 15644 1026 38 लाख 40 हजार
2014—15— 21397 0825 47 लाख 80 हजार
2015—16— 25707 1654 64 लाख 65 हजार
2016—17— 22489 1044 54 लाख 55 हजार
2017—18— 26883 1635 67 लाख 27 हजार

About saket aggarwal

Check Also

एसडीएम कॉलेज में डां0 नेगी को चीफ प्रॉक्टर का दायित्व

डोईवाला/ब्यूरो। एसडीएम डिग्री कॉलेज डोईवाला में डां0 डीएस नेगी को चीफ प्रॉक्टर का दायित्व दिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *