Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / दून विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह सम्पन्न

दून विश्वविद्यालय का प्रथम दीक्षांत समारोह सम्पन्न

44 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक से नवाजा
डॉ0 मुरली मनोहर जोशी तथा श्री नरेंद्र सिंह नेगी को मानद उपाधि
विवि के विभिन्न विकास कार्यों के लिए 5 करोड़ का अनुदानः सीएम
देहरादून। दून विश्वविद्यालय का पहला दीक्षांत समारोह गरिमापूर्ण तरीके से मनाया गया। इस मौके पर दून विवि की कुलाधिपति राज्यपाल श्रीमती बेबीरानी मौर्य ने सांसद पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ मुरली मनोहर जोशी तथा प्रसिद्ध लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी को क्रमशः डॉक्टर ऑफ साइंस तथा डॉक्टर ऑफ लिट्रेचर की मानद उपाधि से विभूषित किया। दून विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में वर्ष 2011 से 2016 तक उत्तीर्ण विद्यार्थियों को उपाधियां प्रदान की गई। इनमें 617 पोस्ट ग्रेजुएट, 380 स्नातक उपाधि तथा 5 पीएचडी उपाधिधारक सम्मिलित हैं। राज्यपाल ने प्रथम प्रयास में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले 44 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक प्रदान किया।


अपने दीक्षांत उद्बोधन में राज्यपाल श्रीमती मौर्य ने कहा कि समाज की आवश्यकता के अनुरूप शोध कार्यों को प्रोत्साहन देना तथा समग्र विकास के लिए नीति निर्माण में सहायता देना विश्वविद्यालयों की बड़ी जिम्मेदारी है। विश्वविद्यालय मात्र डिग्री देने वाले संस्थान नहीं हंै। विश्वविद्यालयों की समाज एवं राष्ट्र के सर्वांगीण विकास में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। विशेष रूप से उत्तराखण्ड जैसे क्षमतावान परन्तु युवा राज्य के लिए उच्च शिक्षण संस्थानों को कई महत्वपूर्ण कार्य करने हैं। उत्तराखंड राज्य का अपना एक विशिष्ट भौगोलिक, सामाजिक, सांस्कृतिक परिवेश है। इस विशेषता को पहचान कर, यहां की महिलाओं, युवाओं, किसानों के समग्र विकास की नीतियां बनाई जानी आवश्यक हैं। उन्होंने कहा कि सौर ऊर्जा सहित सभी अक्षय ऊर्जा स्रोतों से जुड़ी सस्ती तथा जन सुलभ तकनीकों का विकास समय की मांग है। इससे इस क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर भी सृजित होंगे। उन्होंने कहा कि सभी विश्वविद्यालयों तथा कालेजों को भवनों को ग्रीन बिल्डिंग के रूप में विकसित करना चाहिए।


मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विश्वविद्यालय के विभिन्न विकास कार्यों के लिए रुपए 5 करोड़ का अनुदान देने की घोषणा की। उन्होंने शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका का उल्लेख करते हुए कहा कि किसी भी विश्वविद्यालय अथवा शिक्षण संस्थान में अच्छे शिक्षक हों तो संसाधनों की कमी भी दूर हो जाती है। डाॅ मुरली मनोहर जोशी तथा नरेंद्र सिंह नेगी को मानक उपाधि प्रदान करने में विश्वविद्यालय का गौरव बढ़ा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार लोकभाषाओं तथा हिमालय के संरक्षण संवर्द्धन के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि आने वाले समय में दून विश्वविद्यालय देश के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में शामिल होगा। उच्च शिक्षा राज्य मंत्री श्री धन सिंह रावत ने कहा कि दीक्षांत समारोहों को नियमित रूप से आयोजित किया जाएगा। सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ0 मुरली मनोहर जोशी ने उपाधि स्वीकार करते हुए कहा कि दून विश्वविद्यालय को पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने वाली इको फ्रेंडली पॉलिसी निर्माण में योगदान देना चाहिए। उन्होंने हिमालय का महत्व बताते हुए हिमालय की आर्थिकी, पारिस्थितिकी पर गहन शोध की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि हिमालय और उसके जल स्रोतों का संरक्षण संवर्द्धन हमारी प्राथमिकता है। डॉ0 जोशी ने संस्कृत का महत्व बताते हुए संस्कृत के अध्ययन और संस्कृत के ग्रंथों पर शोध को भी जरूरी बताया। लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी ने उपाधि स्वीकार करते हुए कहा कि उनके माध्यम से उत्तराखंड की लोक भाषाओं का सम्मान किया गया है। उन्होंने राज्य की गढ़वाली-कुमाऊंनी सहित सभी क्षेत्रीय भाषाओं तथा संस्कृति के संरक्षण को जरूरी बताया।

About madan lakhera

Check Also

इन तीन दिनों में बारिश की संभावना, अगले 12 घंटों के लिए यहां के लिए भारी बर्फबारी व ओलावृष्टि का अलर्ट जारी

शुक्र, रविवार, सोमवार को बारिश की संभावना, अगले 12 घंटों के लिए भारी बर्फबारी व …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *