Home / Breaking News / हैलीकाफ्टर से जीपों को गुंजी पहुंचाने में 32 लाख रूपये का आयेगा खर्च

हैलीकाफ्टर से जीपों को गुंजी पहुंचाने में 32 लाख रूपये का आयेगा खर्च

उत्तरांचल दीप ब्यूरो, नैनीताल। कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग के गब्र्यांग से नाभिढांग पड़ाव गुंजी से नाभिढांग तक 28 किमी मोटर मार्ग बन जाने के बाद यात्रियों को थार जीपों से सफर कराने के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम द्वारा चार वर्ष पूर्व खरीदी गई चार थार जीपें निगम के नैनीताल मुख्यालय में घूम रही है। इन जीपों का संचालन निगम फिलहाल अपने पुराने हो गये वाहनों के स्थान पर कर रहा है। निगम द्वारा इन जीपों का क्रय मानसरोवर यात्रा में जाने वाले यात्रियों को गुंजी से नाभिढांग तक 28 किमी ले जाने व वापस लाने के लिए किया था। लेकिन इन जीपों को गुंजी पहुंचाने के लिए निगम प्रबंधन सरकार का मुंह ताक रहा है। उसे इन जीपों को हैलीकाफ्टर के माध्यम से गुंजी पहुंचाना है। इसके लिए मालवाहक हैलीकाफ्टर के साथ ही लगभग 32 लाख का खर्च करना पड़ेगा। निगम के अधिकारिक सूत्रों के अनुसार मालवाहक हैलीकाफ्टर के साथ ही निगम को 32 लाख भी जुटाने होंगे। इसके लिए राज्य सरकार व विदेश मंत्रालय को पत्र भेजे गये हैं। फिलहाल इन जीपों का संचालन नैनीताल में निगम अपने कार्यालय कार्यों के लिए कर रहा है। आगामी मानसरोवर यात्रा से पूर्व जीपें गुंजी पहुंचाने का प्रयास किया जायेगा।

निगम सेना के मालवाहक हैलीकाफ्टर के लिए प्रयास कर रहा है। निगम द्वारा इस यात्रा के लिए खरीदी गई चार फोर बाई फोर जीपों को गुंजी में उतारने के लिए निगम प्रशासन ने सेना के हैलीकाप्टर मांगे थे लेकिन अभी तक सेना की ओर से कोई सकारात्मक कारवाई नही हुई है। निगम के महाप्रबंधक त्रिलोक सिंह मर्तोलिया ने बताया कि इन जीपों के गुंजी से संचालन के लिए सम्भागीय परिवहन प्राधिकरण से वाहनों के लिए स्वीकृति मिल गई है। निगम द्वारा तीन वर्ष पूर्व चार थार जीपों की खरीद भी कर ली है। इन जीपों को उतारने के लिए हैलीकाप्टर का खर्चा 32 लाख रूपया आ रहा है। विदेश मंत्रालय व प्रदेश सरकार से पत्राचार किया गया है। लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नही हुई है। उन्होंने बताया कि नैनीताल में इन जीपों का उपयोग निगम के कार्यों के लिए किया जा रहा है। आगामी वर्ष जीपें गुंजी पहुंचाई जाय। इसके लिए प्रयास तेज किये जायेंगे। फिलहाल निगम इन जीपों का संचालन नैनीताल आने वाले सैलानियों को सैर कराने के अलावा कायालयी कार्यों के लिए कर रहा है।

About saket aggarwal

Check Also

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री बेहड़ प्रकरण में एसएसपी सख्त

रुद्रपुर। पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलक राज बेहड़ को फोन पर जान से मारने की धमकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *