Breaking News
Home / Breaking News / हरिद्वार : हर की पैड़ी पर लाखों ने लगाई डुबकी

हरिद्वार : हर की पैड़ी पर लाखों ने लगाई डुबकी

हरिद्वार। सोमवार को सोमवती अमावस्या स्नान के लिए देश भर से लाखों श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचे और हर की पैड़ी पर गंगा में पावन डुबकी लगाई। स्नान के लिए श्रद्धालुओं का ऐसा सैलाब उमड़ा कि हर तरफ तीर्थ यात्री ही नजर आए।
रविवार की शाम ही होटल, आश्रम और धर्मशालाओं में हाउस फुल के बोर्ड लटके दिखे। हजारों यात्रियों ने खुले मैदानों में ही रात भर डेरा डाल दिया। सूरज निकलने से पहले ही हर की पैड़ी पर गंगा में डुबकी लगाकर पाप से मुक्ति और पुण्य प्राप्ति की कामना करना शुरू हो गया। सूरज निकलने के बाद तो सोमवार की सुबह गंगा घाटों पर भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। इस दौरान पुलिस विभाग भी सतर्क दिखा। रविवार को धूम्राक्ष योग और कृतिका नक्षत्र होने के कारण अमावस्या का पुण्य योग सायंकाल 4.40 बजे से शुरू हो गया था। इसलिए बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान शुरू कर दिया था। जेठ माह की अमावस्या सोमवार को होने के साथ ही आज शनि जयंती होने से सर्वार्थ सिद्धि योग भी होने से इस बार अमावस्या का महत्व बढ़ गया है। वट सावित्री का व्रत भी साथ पडऩे को लेकर मान्यता है कि इस योग में गंगा स्नान, दान पुण्य करने से राहु, केतु और शनि से संबंधित कष्टों से मुक्ति मिलती है। हरकी पैड़ी, सर्वानंद घाट, बिरला घाट, लवकुश घाट, विश्वकर्मा घाट, प्रेमनगर आश्रम घाट आदि घाटों पर श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा पड़ा। सनातनी मान्यता के अनुसार अमावस्या पर पितरों के निमित्त भी कर्मकांड किए गए। नारायणी शिला, कुशावर्त घाट पर लोगों ने कर्मकांड किए। भीड़ बढऩे के साथ ही हरिद्वार जनपद में ट्रैफिक व्यवस्था भी चरमरा गई। पुलिस ने मालवाहक वाहनों को जनपद के बार्डर पर रोक दिया। पुलिस प्रशासन की ओर से हरकी पैड़ी समेत अन्य गंगा घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। दरअसल चारधाम यात्रा तो चल ही रही है, इसके साथ ही स्कूलों में गर्मियों की छुट्टियां भी पड़ी हुई हैं। इसकी वजह से लाखों की संख्या में श्रद्धालु स्नान करने पहुंचे हुए हैं। देश के अन्य स्थानों पर भी लोगों ने नदियों और पवित्र सरोवरों में स्नान किया।

About saket aggarwal

Check Also

रुद्रपुर : पाश्चात्य संस्कृति से भिड़ी भारतीय संस्कृति

रुद्रपुर। पाश्चात्य सभ्यता की नुमाइश कर रही एक महिला की तारीफ करना भारतीय सभ्यता की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *