Home / Breaking News / बढ़ती प्रतिस्पर्धा एवं नशाखोरी से बढ़ रहे मानसिक रोगी

बढ़ती प्रतिस्पर्धा एवं नशाखोरी से बढ़ रहे मानसिक रोगी

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर विशेष जानकारी

हल्द्वानी। आज के समय मेें बढ़ती प्रतिस्पर्धा तथा बेरोजगारी के चलते लगभग हर दूसरा व्यक्ति मानसिक रूप से अस्वस्थ है लेकिन व्यक्ति इसके कारण एवं लक्षणों को नहीं पहचान पा रहा है। भागदौड़ भरा जीवन तथा ज्यादा पाने की चाह ने इन्सान को इस तरह घेर रखा है कि कई बार तो अत्यधिक तनाव होने से व्यक्ति आत्महत्या जैसा गलत कदम उठा लेता है। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए हमनें विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर मनसा मानसिक स्वास्थ्य क्लीनिक मुखानी, हल्द्वानी की क्लीनिकल साइकोलोजिस्ट डा. नेहा शर्मा से जानकारी ली।

डा. नेहा शर्मा

 

तनावग्रस्त जीवन आत्महत्या का कारण:-
आजकल आत्महत्या की घटनायें बढ़ रही हैं। बदलती जीवनशैली, बेरोजगारी, आधुनिक रहन-सहन भी मानसिक तनाव का कारण बन रहा है। जिससे कई बार व्यक्ति आत्महत्या जैसा कदम उठा लेता है। जिसका खामियाजा पूरे परिवार को भुगतना पड़ता है।

डिप्रेशन में आ जाना:-
काल्पनिक जीवन में रहने वाला व्यक्ति कई बार वास्तविकता आने पर कई बार डिप्रेशन का शिकार हो जाता है। डिप्रेशन में व्यक्ति अपने नकारात्मक विचारो द्वारा आयें काले बादलों घिर जाता है एवं अपने को असहाय सा महसूस करता है। ऐसा व्यक्ति कई बार आत्महत्या जैसा आत्माघाती कदम भी उठा लेता है।

सोशल मीडिया का प्रभाव:-
आजकल की युवा पीढ़ी सोशल मीडिया से प्रभावित होकर अस्वस्थ जीवन जी रहे हैं। सोशल मीडिया का अधिक इस्तेमाल अथवा ऑनलाइन गेम खेलने पर चिड़चिड़ापन, गुस्सा आना, काम में मन न लगना, नींद न आना जैसी गम्भीर बीमारियां हो जाती हैं। जो कि आगे चलकर मानसिक विकास में बाधक बनती हैं।

नशा जनित मानसिक रोग:
आजकल का युवा नशे की गिरफ्त में आकर भी लगातार मानसिक रोगों का शिकार हो रहें हैं। नशा करने से सोच प्रक्रिया में गड़बड़ी के साथ व्यवहारगत समस्यायें जैसें चिड़चिड़ापन, गुस्सा, बेचैनी, गुमसुम रहना, नींद न आना जैसी परेशानी उत्पन्न होती हैं। जो कि आगे चलकर मानसिक रोगों का कारण बनती हैं।

मानसिक रोगों से बचाव के लिए सुझाव:-
1-आत्महत्या के विचारों से बचने के लिए शारीरिक, मानसिक स्तर पर स्वस्थ रहना।
2- समय पर सोना एवं जागना।
3-नियमित रूप से व्यायाम करना, संतुलित व पौष्टिïक आहार, शराब एवं अन्य नशें से बचें।
4-सकारात्मक सोच रखना, आत्मविश्वास से कार्य करें।
5-परिवार के लिए समय निकालें, दूसरों की मदद करें।

About saket aggarwal

Check Also

आईपीएल से पहले कुमाऊं के क्रिकेटर अवनीश को मुंबई इंडियंस का बुलावा

टीम चयन के ट्रायल में हिस्सा लेगा काशीपुर का युवा हल्द्वानी। उत्तराखंड में क्रिकेट में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *