Breaking News
Home / Breaking News / हम फुटपाथ छोडऩे वाले नहीं…

हम फुटपाथ छोडऩे वाले नहीं…

-प्रशासन से थोड़ी छूट मिलने पर और रिलैक्स हुए व्यापारी
– टीनें तो हटाई लेकिन स्ट्रक्चर नहीं, मंगलवार को खुले में ही सजीं दुकानें
रुद्रपुर। अतिक्रमण हटाओ अभियान की तारीख एक बार फिर से आगे बढ़ गई है। प्रशासन के सख्त रुख को देखते हुए व्यापारियों ने अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है लेकिन ये सिर्फ रस्मअदायगी के तौर पर ही है। अभी तक मुख्य बाजार के व्यापारियों ने अपनी दुकानों के आगे अतिक्रमित फुटपाथ पर से मात्र टीनें ही हटाई हैं। टीन लगाने के लिए लगाये गए स्ट्रक्चर को हटाने की अभी तक कोई पहल नहीं हुई है। न ही फर्श तोडक़र कब्जा छोडऩे पर किसी का ध्यान है। इतना ही नहीं मंगलवार को तो व्यापारियों ने खुले में ही अपना तामझाम सजाकर साफ कर दिया गया कि वे सुधरने वाले नहीं हैड्ड।
सोमवार को साप्ताहिक बंदी के दिन जिलाधिकारी डॉ. नीरज खैरवाल, एसएसपी डॉ. सदानंद दाते, नगर आयुक्त जयभारत सिंह, एसडीएम युक्ता मिश्र के साथ बाजार पैदल घूमे। डीएम ने फुटपाथ पर अतिक्रमण के हालात देखे। उस वक्त व्यापारी जोर-शोर से अपने टीन-टप्पर हटा रहे थे। विधायक राजकुमार ठुकराल व देवभूमि व्यापार मंडल अध्यक्ष गुरमीत सिंह ने डीएम से कहा कि व्यापारी स्वेच्छा से अतिक्रमण हटा रहे हैं। चूंकि बड़े पैमाने पर ये काम हो रहा है इसलिए लेबर आदि की दिक्कत आ रही है इसलिए थोड़ा वक्त और दिया जाना चाहिए। साथ ही आवासीय भवनों के मामलों को भी ध्यान देना चाहिए क्योंकि यदि इन भवनों को तोडऩे में असावधानी हुई तो बड़ा नुकसान हो सकता है। इसके बाद डीएम ने कहा कि 20 अप्रैल के बाद प्रशासन किसी की नहीं सुनेगा। लाल निशान लगाने के लिए निगम की टीम आएगी। जहां तक आवासीय भवनों की बात है वहां पर भवन का स्ट्रक्चर देखकर तय होगा कि संबंधित भवन स्वामी को कितना वक्त दिया जाना है लेकिन वक्त तभी दिया जाएगा जब संबंधित भवन स्वामी लिखित तौर पर आवेदन करेगा। उसमें समय सीमा का स्पष्टï तौर पर उल्लेख आवश्यक होगा।
डीएम के इस रुख से व्यापारी मंगलवार को फिर से रिलैक्स मूड में नजर आए। व्यापारियों ने टीन शैड तो हटा लिए हैं लेकिन फुटपाथ से कब्जा छोडऩे को तैयार नहीं हैं। मंगलवार को किसी ने फुटपाथ पर अपना काउंटर रखने के लिए छतरी का इस्तेमाल किया तो कोई खुले में ही बैठा। इतना ही नहीं दो-चार को छोड़ कोई भी व्यापारी टीन लगाने के लिए लगे स्ट्रक्चर को ध्वस्त करने में रुचि नहीं ले रहा है। व्यापारियों का मतलब साफ है कि हम फुटपाथ से कब्जा छोडऩे वाले नहीं हैं।

About saket aggarwal

Check Also

नैनीदून जनशताब्दी एक्सप्रेस के चलने से रोडवेज को लाखों का नुकसान

कर्मचारी यूनियन की बैठक में उठा मुद्दा यूपी रूट पर बंद पड़ी बसों को पुन: …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *