Home / Breaking News / हंगामे के बीच नगर निगम का बजट पेश

हंगामे के बीच नगर निगम का बजट पेश

रुद्रपुर। नगर निगम की बोर्ड की बैठक में हंगामा के बीच बजट पेश किया गया। इस दौरान झील को लेकर भी पार्षदों ने हंगामा काटा। शनिवार को निगम की बैठक जैसे ही शुरू हुई पार्षदों ने अपनी-अपनी मांगों को लेकर हंगामा काटना शुरु कर दिया। पार्षद ललित मिगलानी ने कहा कि बोर्ड ने 28 अप्रैल को बैठक बुलाई जानी थी जो कि स्थगित होने के बाद आज हो रही है। बजट संबंधी बैठक जब आज हो रही है तो फिर उन्हें जो एजेंडा उपलब्ध कराया गया है उसमें 28 अप्रैल का जिक्र क्यों है। इस पर एमएनए और मिगलानी के बीचा तीखी नोकझोंक हो गई। बैठक में पार्षदों ने सवाल उठाया कि बोर्ड में पारित होने वाले प्रस्ताव की पंजिका पर उनके भी हस्ताक्षर कराये जाने चाहिए। इस पर एमएनए ने कहा कि उक्त पंजिका में केवल अध्यक्ष व स्वयं उनके ही साइन होते हैं, ऐसे में नई परंपरा शुरू करना संभव नहीं है। वीडियोग्राफी को ही अपनी उपस्थिति का प्रमाण बताते हुए पार्षदों ने प्रस्ताव पंजिका में हस्ताक्षर करने की मांग को बार-बार दोहराने पर मेयर व एमएनए ने एक सिरे से नकार दिया। हंगामेदार के दौरान ही मेयर सोनी कोली की अध्यक्षता में एमएनए ने वित्तीय वर्ष 2017-18 का बजट प्रस्तुत किया पिछले वर्ष की अवशेष राशि के रूप में 15 करोड़ निगम के खाते में दर्शाए गए। वर्तमान वित्तीय वर्ष की अनुमानित आय 35 करोड़ 26 लाख को मिलाकर कुल 50 करोड़ 26 लाख की बजटीय राशि में से निगम द्वारा वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए अनुमानित व्यय 42 करोड़ 60 लाख साठ हजार आंका गया। इस प्रकार वर्षांत के अंत में 7 करोड़ 65 लाख 40 हजार बतौर अवशेष राशि का अनुमान रखा गया। पेश बजट के मुताबिक कुल एक करोड़ 21 लाख की आय करों के माध्यम, अन्य स्रोतो से 2.95 करोड़ एवं 31.10 करोड़ शासकीय अनुदान के रूप में अनुमानित की गयी है। आय के सापेक्ष निगम की बैठक में 9 करोड़ 33 लाख 51 हजार वेतन एवं भत्ते पर होने वाले व्यय के रूप में, प्रशासनिक मदो पर 3 करोड़ 77 लाख 9 हजार जबकि विकास एवं अन्य मदों में कुल व्यय का अनुमान 29 करो 50 लाख रखा गया है। आय के सापेक्ष होने वाले व्यय के उपरांत वित्तीय वर्ष के अंत में 7 करोड़ 65 लाख 40 हजार की राशि बतौर अवशेष रहने का अनुमान व्यक्त किया गया है। इस दौरान सांसद प्रतिनिधि अनिल चौहान, पार्षद सोनू अनेजा, राधा छाबड़ा, धीरेंद्र भट्ट, मोनू निषाद, कालीचरण, महेंद्र आर्य, रजनीश ग्रोवर, सौरभ शर्मा, कंचन कौर, विकास मलिक, श्याम पाली, ठाकुर देवी, प्रमिला साहनी, सविता अधिकारी, चंद्रसेन चंदा, नूर अहमद,गौरव खुराना आदि मौजूद थे।

About saket aggarwal

Check Also

शिकायत सही पाये जाने पर कैमिकल फैक्ट्री सील

बिना ट्रीटमेंट किये प्रदूषित पानी को नदी में बहाये जाने का मामला, बिना अनापत्ति प्रमाण पत्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *