Breaking News
Home / Breaking News / भारत की आर्थिक रफ्तार के आगे पिछड़ा चीन

भारत की आर्थिक रफ्तार के आगे पिछड़ा चीन

नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़े आज जारी किए गए। चालू वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में देश की देश की जीडीपी ग्रोथ बढ़कर 7.2 फीसदी हो गई है। यह आंकड़ा अर्थशास्त्रियों के अनुमानों से भी बेहतर रहा। अर्थशास्त्रियों ने इसे 6.9 फीसदी रहने का अनुमान जताया था। इन बेहतर आंकड़ों के बाद भारत इस तिमाही में चीन की वृद्धि दर 6.8 फीसदी को पीछे छोड़कर दुनिया में सबसे तेजी से ग्रोथ करने वाला देश बन गया है। रॉयटर्स द्वारा 35 अर्थशास्त्रियों के एक पोल में इस बात की संभावना जताई गई थी।
बता दें कि चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 6.3 प्रतिशत थी और पहली तिमाही में 5.7 प्रतिशत रही थी। स्टेनली की रिपोर्ट में कहा गया है कि सकल मूल्य वर्धन (जीवीए) के संदर्भ में वृद्धि दर सालाना आधार पर दूसरी तिमाही के 6.1 प्रतिशत की तुलना में बढ़कर तीसरी तिमाही में 6.7 प्रतिशत रही है।
रिपोर्ट के अनुसार, कंपनियों की आय में भी दिसंबर तिमाही के दौरान सुधार हुआ है। वाहन एवं दोपहिया वाहनों की बिक्री भी इस दौरान तेजी से बढ़ी है। वस्तुओं के निर्यात की वृद्धि में भी दहाई अंकों में वृद्धि दर्ज की गयी है। हालांकि उद्योग एवं सेवा क्षेत्र में वृद्धि दर तेज होने तथा कृषि क्षेत्र में घटने का अनुमान है।
उल्लेखनीय है कि नोटबंदी की वजह से पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही से आर्थिक गतिविधियां सुस्त पड़ी थी और चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही की शुरुआत में एक जुलाई से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू किये जाने से इस पर और अधिक दबाव बना था जिसके कारण आर्थिक गतिविधियां मंद पड़ गयी थी। अब इसमें तेजी आने लगी है, लेकिन विनिर्माण गतिविधियां अभी भी सुस्त बनी हुयी है।

About saket aggarwal

Check Also

गृहकर बढ़ोतरी पर भडक़े व्यापारी,कांग्रेसी, तहसील में प्रदर्शन

किच्छा। नगर पालिका प्रशासन द्वारा गृहकर में बेतहाशा वृद्धि किए जाने के विरोध में युवा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *