Home / Business / इंडिगो ने मिशलिन को बनाया अपना ’टायर पार्टनर’

इंडिगो ने मिशलिन को बनाया अपना ’टायर पार्टनर’

पर्यावरण हितैषी टायरों की करेगी आपूर्ति
देहरादून। एविएशन टायरों में विश्व की अग्रणी कंपनी मिशलिन, अब लंबे समय के लिए इंडिगो का भरोसेमंद पार्टनर होगा। कंपनी इंडिगो के एयरबस और एटीआर फ्लीट्स के लिए टायरों की आपूर्ति करेगी। कंपनी इंडिगो के बेड़े को पर्यावरण हितैषी मिशलिनो एआइआरो फ्युल एफिशिएंट टायरों से सुसज्जित कर, इसे अपने यात्रियों को बेहतर सेवा प्रदान करने में मदद करेगी।
अगस्त 2006 में एक ही विमान से शुरु हुई इंडिगो विमानन क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रही है। आज इसके बेड़े में 189 एयरक्रॉफ्ट मौजूद हैं। वर्तमान में कंपनी के विमान 48 घरेलू और 11 अंतरराष्ट्रीय गंतव्यों के लिए उड़ान भरते हैं। अपनी ग्राहक सेवा के लिये मशहूर इंडिगो का एक सामान्य सिद्धांत है- सस्ते हवाई सफर, समय पर उड़ानों और विनम्र एवं परेशानीमुक्त यात्रा अनुभव की पेशकश करना। इस सिद्धांत के अनुरूप, इंडिगो द्वारा उपभोक्ता-हितैषी और ईंधन दक्ष 320 नियो फैमिली एयरक्रॉफ्ट की खरीदारी की जा रही है, जिसके लिये मिशलिन एक ओई टायर सप्लायर भी है।
फ्रैंक मोरेयू, प्रेसिडेंट, मिशलिन एयरक्रॉफ्ट टायर ने कहा रू ’’हमने वाकई में हाइ-टेक्नोलॉजी से युक्त टायरों को विकसित किया है जो एयरक्रॉफ्ट्स की जरूरतों के बिल्कुल अनुरूप हैं। इस तरह हमने न सिर्फ मुश्किल से मुश्किल हालातों में सुरक्षा के उच्च स्तर और अधिक संख्या में लैंडिंग्स की गारंटी का संयोजन किया बल्कि ईंधन दक्षता और पर्यावरण के मुद्दों का भी पूरा ख्याल रखा।’’
मिशलिनो एआइआर एक्सो रेडियल टायर वैश्विक एयरक्रॉफ्ट टायर मार्केट में एक मिसाल है। यह टायर एयरक्रॉफ्ट की अधिक लैंडिंग की गारंटी देकर, बेहतर ईंधन दक्षता उपलब्ध कराकर और फॉरेन ऑब्जेक्ट डैमेज से बेमिसाल प्रतिरोध देकर समूचे परिचालन खर्च को काम करने का वादा करती है। अपनी नई रेडियल केसिंग डिजाइन की बदौलत ये टायर्स पर्यावरण हितैषी हैं। इनका निर्माण इस तरह से किया गया है, कि ये कम कंपोनेंट्स और कम ईंधन का इस्तेमाल करते हैं, जिससे ब्व्2 उत्सर्जन कम हो जाता है।
इंडिगो और मिशलिन के बीच यह रणनीतिक साझेदारी विमानन बाजार में न सिर्फ बेहतर सुरक्षा एवं दक्षता के नजरिये से बल्कि एक अधिक स्थायित्वपूर्ण व पर्यावरण हितैषी परिवेश के नजरिये से भी बेहद महत्वपूर्ण साबित होगी।

About madan lakhera

Check Also

सूर्यधार बांध डिजाइन को आईआईटी कानपुर ने दी स्वीकृति

26 करोड़ की लागत से बनेगा बांध, अगले हफ्ते से कार्य शुरू सीएम कोठियाल डोईवाला। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *