Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Dehradun / सियासी दलों पर भारी पड़ रहे निर्दल!

सियासी दलों पर भारी पड़ रहे निर्दल!

भाजपा-कांग्रेस के चुनावी गणित पर फेरा पानी
तेजी से आगे बढ़ रहा निर्दलों की जीत सिलसिला
राज्य के 14 निकाय अध्यक्ष पद पर जमा चुके कब्जा
सभासद, पार्षद व सदस्य के 383 पदों पर भी जीते
‘उत्तरांचल दीप’ ने पहले ही जता दी थी संभावना
देहरादून। निकाय चुनाव में उतरे निर्दलीय प्रत्याशी भाजपा व कांग्रेस सहित अन्य दलों पर भारी पड़ते दिख रहे हैं। आज मंगलवार को चल रही मतगणना के शाम तक के नतीजों और रुझानों ने यह साफ कर दिया है। शुरुआती दौर से ही निर्दलीयों की जीत का सिलसिला शाम छह बजे के बाद भी तेजी से आगे बढ़ रहा है। प्रदेश के 84 निकायों में दिनभर की मतगणना में निर्दल भाजपा व कांग्रेस के चुनावी गणित पर पूरी तरह से पानी फेरते नजर आ रहे हैं। शाम बजे तक निकाय अध्यक्ष पदों पर 17 निर्दलीय जीत का परचम लहरा चुके थे। जबकि, बीजेपी मात्र 22 सीटों के साथ पहले स्थान पर बनी है। कांग्रेस निकाय अध्यक्ष पद पर जीत के मोर्चे पर निर्दलीयों से भी पीछे 15 सीटों पर खड़ी है। सभासद, पार्षद व वार्ड सदस्यों के पदों की बात करें तो निर्दलीयों ने भाजपा व कांग्रेस दोनों राष्ट्रीय दलों को बुरी तरह पछाड़ दिया है। 383 पदों पर कब्जा जमाकर निर्दलीय बीजेपी व कांग्रेस से बहुत आगे चल रहे हैं।
आपकों बता दंे कि प्रदेश के निकाय चुनाव के इतिहास में निर्दलीय प्रत्याशियों दबदबा शुरु से ही बना है। आपके लोकप्रिय अखबार उत्तरांचल दीप ने 25 अक्टूबर के अंक में ‘फिर… कड़ी चुनौती होगी निर्दलों की हुंकार’ शीर्षक से चुनाव के इस अहम पहलू को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। राज्य के शहरी निकायों के लिए हुए चुनाव में भाजपा-कांग्रेस चाहे ऐड़ी-चोटी का जोर लगाते रहे हैं, मगर, भारी संख्या में जीतते निर्दलीय ही रहे हैं।

25 oct
वर्ष 2008 के राज्य के कुल 60 शहरी निकायों में चुनाव हुए थे। नतीजे आए तो नगर निगम, नगर पालिका परिषद व नगर पंचायतों में मेयर व अध्यक्ष पद पर 22 निर्दलीय उम्मीदवार चुनकर आ गए। जबकि, भाजपा के लिए जीत का आंकड़ा 18 और कांग्रेस के लिए 17 रहा था। 600 से अधिक वार्डों में चुुनकर आए उम्मीदवारों में निर्दलों का आंकड़ा 300 के पार रहा। वार्ड मंेबरों में भाजपा के 177, कांग्रेस के 135, बसपा के 10, सपा के पांच व यूकेडी के छह प्रत्याशी जीत कर आए। 2013 में निकाय चुनाव की जंग में भी कुल 69 निकायों में मेयर व निकाय अध्यक्ष पद पर 22 निर्दलों की जीत हुई। जबकि, भाजपा की झोली में भी 22 और कांग्रेस के 20 पद आए। वार्ड मेंबरों में भी 690 पदों में से 369 पर निर्दलांे ने जीत हासिल की।
प्रदेश में निर्दलों की जीत का यह दबदबा इस बार के निकाय चुनाव में और बढ़कर बोल रहा है। मतगणना के शाम तक परिणाम व रुझान इसका संकेत दे चुके हैं। निकाय अध्यक्ष पद के लिए दोपहर एक बजे तक घोषित 14 नतीजों में से निर्दलीय 6 पर जीत का परचम लहरा चुके थे। दुगड्डा, रानीखेत व बनबसा आदि निकायों मंें निर्दलों ने बीजेपी व कांग्रेस को तगड़ा झटका देकर शानदार आगाज किया है। भाजपा आठ अध्यक्ष पदों पर जीत के साथ सबसे आगे बनी थी। निकाय अध्यक्ष पद 15 सीटों के दो चरणों के रूझान में भी निर्दलीय पांच सीटों पर आगे चल रहे थे। भाजपा 6 व कांग्रेस तीन सीट पर आगे चल रही थी।
नगर निगमों, नगर पालिका व नगर पंचायतों के वार्ड सदस्य पदो ंके सामने आ रहे नतीजों में तो निर्दलीय भारी जीत के साथ आगे बढ़ रहे हैं। दोपहर एक बजे तक घोषित 243 नतीजों में निर्दलीय 154 वाडों में जीत हासिल कर भाजपा-कांग्रेस से भारी बढ़त बनाए हुए हैं। भाजपा 59 वार्डों में जीत के साथ दूसरे व कांग्रेस 30 में जीत के साथ तीसरे स्थान पर रही है।
इसी कड़ी में शाम साढे़ छह बजे तक घोषित नतीजों व रूझानों में भी निर्दलीयों के शानदार प्रदर्शन का सिलसिला जारी है। राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से शाम साढ़े छह बजे मतगणना के नतीजे और रूझान अपडेट किए गए। मेयर व निकाय अध्यक्ष के 84 पदों में से 54 के नतीजे घोषित कर दिए गए हैं। इन नतीजों में बीजेपी 22 पदों पर कब्जा जमाकर पहले नंबर पर है, जबकि निर्दलीय 17 पदों पर जीत के साथ उसके पीछे चल रहे हैं। कांग्रेस ने 15 पदों पर जीत हासिल की है। शाम तक के मतगणना के रूझानें की बात करें तो निकाय अध्यक्षों की 21 सीटों की हो रही मतगणना में निर्दलीय पांच पर आगे चल रहे हैं, जबकि भाजपा नौ और कांग्रेस 6 पर आगे है।
वार्ड मेंबर्स के 1064 पदों के लिए हो रही मतगणना में शाम साढ़े छह बजे तक 652 के नतीजे घोषित हो चुके हैं। 383 पदों पर जीत के साथ निर्दलीयों ने भाजपा और कांग्रेस को बुरी तरह से पछाड़ रखा है। भारतीय जनता पार्टी ने 162, कांग्रेस ने कांग्रेस ने 104 और सपा, बसपना व यूकेडी ने एक-एक पद पर जीत हासिल की है। वार्ड मेंबरों के 132 पदों की मतगणना के प्राप्त रूझानों में भी 61 निर्दलीय प्रत्याशी आगे चल रहे हैं। बीजेपी 47 और कांग्रेस 23 पदों पर आगे चल रही है।
मतगणना के शाम तक घोषित हो चुके नतीजों और प्राप्त रूझानों से साफ है कि इस बार के निकाय चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशियों का प्रदर्शन और शानदार रहेगा। वार्ड मेंबर और निकाय अध्यक्ष पदों पर मतदाताओं ने भाजपा और कांग्रेस को करारा संदेश देकर निर्दलीयों को बड़ी संख्या में जीताया है। ऐसे में साफ है कि इस बार के निकाय चुनाव निर्दलों की रिकार्ड जीत का गवाह बनने जा रहे हैं। साफ है कि मतदाताओं ने निर्दलीय प्रत्याशियों पर विश्वास जताकर भाजपा व कांग्रेस को करारा संदेश देने का काम किया है।

About madan lakhera

Check Also

औली में शाही शादीः गुप्ता बंधुओं के बड़े बेटे सूर्यकांत की हुई राॅयल वेडिंग, बाॅलीवुड सितारों का लगा जमघट

देहरादून। बिजनेस टायकून अजय गुप्ता के बेटे सूर्यकांत की शादी गुरुवार को औली में पूरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *