Home / Breaking News / आईएस आतंकी के सिर में 3.5 किमी की दूरी से स्नाइपर ने मारी गोली

आईएस आतंकी के सिर में 3.5 किमी की दूरी से स्नाइपर ने मारी गोली

नई दिल्ली (एजेंसी)। बंदुक की नोख से आप साढ़े तीन किलोमीटर की दूरी पर हैं। फिर भी आप सुरक्षित नहीं हैं। उतनी दूरी से भी आपको निशाना बनाया जा सकता है। बात कनाडा की स्पेशल फोर्स के एक स्नाइपर की है। स्नाइपर का काम असल निशाने से दूर बैठकर काम को अंजाम देना होता है। इस स्नाइपर ने साढ़े तीन किलोमीटर की दूरी से सटीक निशाना लगाकर विश्व रिकॉर्ड बना दिया है।

10 सेकेंड में गोली हुई सिर के पार
इससे पहले के रिकॉर्ड की बात करें तो अभी तक किसी ने भी ढाई किलोमीटर से ज्यादा दूरी का शॉट नहीं लिया था। इराक में तैनात कनाडा की ज्वाइंट टास्क फोर्स 2 के इस स्नाइपर ने पिछले महीने इस्लामिक स्टेट के एक लड़ाके को मार गिराया। इसके लिए उसने मैकमिलन टीएसी-50 राइफल का प्रयोग किया था। 3,450 मीटर की दूरी तय कर निशाना भेदने में गोली को 10 सेकेंड लगे। इस्लामिक स्टेट के उस लड़ाके को वीडियो कैमरा व अन्य डाटा के जरिए ट्रेस किया गया था। द ग्लोब एंड मेल वेबसाइट ने लिखा है- यह एक कमाल की उपलब्धि है। यह एक ऐसा वल्र्ड रिकॉर्ड है जिसकी शायद बराबरी न हो सके।

तालिबानी आतंकी को 2,475 मीटर की दूरी से मार गिराया
बता दें कि इससे पहले सबसे ज्यादा दूरी से लक्ष्य भेदने का विश्व रिकॉर्ड ब्रिटिश स्नाइपर क्रेग हैरिसन के नाम पर था। उन्होंने एक तालिबानी आतंकी को 2009 में 2,475 मीटर की दूरी से मार गिराया था। क्रेन ने 338 लापुआ मैग्नम राइजल का प्रयोग किया था। उनसे पहले कनाडा के रॉब फर्लांग ने 2002 में 2,430 मीटर से निशाना साधा था। तब उन्होंने ऑपरेशन एनाकॉण्डा के दौरान एक अफगानी उग्रवादी को मार गिराया था।

ज्वाइंट टास्ट फोर्स 2 का गठन मुख्य रूस से आतंकवाद-निरोध, स्नाइपर ऑपरेशंस और बंधकों को छुड़ाने के लिए किया गया है। इस फोर्स की अधिकतर जानकारी क्लासिफाइड है। सरकार भी इस पर ज्यादा कुछ नहीं बोलती। सुरक्षा के नजरिए से स्नाइपर और उसके पार्टनर या लोकेशन का खुलासा नहीं किया गया है। एक स्नाइपर के लिए 3,450 मीटर की दूरी से आतंकी को निशाना बनाना बेहद मुश्किल है। इसमें दूरी का अहम रोल होता है। इसके लिए शानदार नजर, गणितीय योग्यता, हथियारों की सटीक जानकारी व बेहतरीन ट्रेनिंग की जरूरत होती है।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी: सरकारी अस्पतालों को पीपीपी मोड पर देने का विरोध

नर्सेज की सरकारी नियुक्तियों की मांग, सीएम का फूंका पुतला हल्द्वानी। उत्तराखंड नर्सेज एसोसिएशन सदस्यों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *