Home / Breaking News / हल्द्वानी:जल संचय को प्रेरित करने वाले कार्यक्रमों का आयोजन

हल्द्वानी:जल संचय को प्रेरित करने वाले कार्यक्रमों का आयोजन

हल्द्वानी। राजकीय इंटर कॉलेज गुनियालेख के बच्चों एवं शिक्षकों के सामूहिक प्रयास से जल संचय एवं जल संरक्षण विषय पर एक विचार गोष्ठी निबंध प्रतियोगिता एवं पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें विद्यालय के कक्षा 6 से 12 तक के बच्चों के द्वारा बढ़ चढक़र हिस्सा लिया गया ।
इस अवसर पर सबसे छोटी कक्षा के बच्चों के द्वारा ‘पानी रे पानी, तेरी अमर कहानी’ गीत के माध्यम से जल संचय एवं जल संरक्षण का भी संदेश दिया । ‘न करना जल का अपमान, हमें यह देते जीवनदान’ मोहित कुमार द्वारा यह संदेश दिया गया।
निबंध प्रतियोगिता में प्रतिभागी दीपा गरवाल ने लिखा कि लोग अधिकाधिक मात्रा में पेड़ काट रहे हैं, जिससे जल के स्रोत सूख रहे हैं। पिंकी आर्य ने लिखा, ‘मनुष्य अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में पानी का उपयोग करता है पानी से प्रत्येक मनुष्य की दिनचर्या संचालित होती है । ’ सोनी दानी ने लिखा ,‘ हम वर्षा के जल को संचित कर खेतों की सिंचाई कर सकते हैं।’
कार्यक्रम के संयोजक गौरीशंकर कांडपाल के द्वारा कार्यक्रम की विस्तृत रूपरेखा रखते हुए बच्चों को जल संचय एवं संरक्षण के विषय में बताया।
इस अवसर पर आयोजित विचार गोष्ठी में बोलते हुए डॉ. गोकुल सिंह मर्तोलिया ने कहा ,जल चक्र में व्यवधान उत्पन्न होने से पानी की कमी हो रही है । विद्यालय के संस्था अध्यक्ष रमेश चंद्र द्विवेदी ने कहा हमारे पूर्वज काफी दूरदर्शी थे जिनके द्वारा समय-समय पर जल का बेहतरीन इस्तेमाल किया जाता था।
यह परंपरा सिंधु घाटी सभ्यता से चली आ रही है वर्तमान में जल के संकट के कारण ही कावेरी जल विवाद जैसे मुद्दे राष्ट्रीय स्तर पर उभर कर आए भारत पाक सिंधु जल समझौता की समस्या भी वर्तमान जल संकट के कारण उभरकर आई है।
कार्यक्रम का संचालन गौरीशंकर काण्डपाल ने किया। इस अवसर पर कमला गुरुरानी, गोकुल सिंह मर्तोलिया, सोनल जोशी, नारायणी पांगती, एम एन गोस्वामी, हेम त्रिपाठी आदि उपस्थित रहे।

About saket aggarwal

Check Also

शहीदों के आश्रितों को नौकरी देने वाला उत्तराखंड पहला राज्य

डोईवाला/ब्यूरो। एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री ने शहीद प्रदीप रावत को श्रद्धा-सुमन अर्पित करने के बाद पत्रकारों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *