Home / Uncategorized / जनता की समस्याओं का निराकरण करें : आयुक्त

जनता की समस्याओं का निराकरण करें : आयुक्त

वन पंचायतों में नये सिरे से निर्वाचन कराकर उन्हें सक्रिय करने के निर्देश
उत्तरांचल दीप ब्यूरो, नैनीताल। आयुक्त कुमाऊं राजीव रौतेला द्वारा एलडीए सभागार में वन, जलसंस्थान, समाज कल्याण, चिकित्सा स्वास्थ्य, श्रम, खाद्य आपूर्ति, वन विकास निगम, सिंचाई, जलनिगम, नलकूप, लघु सिंचाई, पर्यटन, प्रशिक्षण, उरेडा, परिवहन तथा परिवहन निगम महकमों की समीक्षा की। समीक्षा बैठक में कुमाऊं मंडल के सभी जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी भी मौजूद रहे। समीक्षा बैठक के दौरान आयुक्त रौतेला ने कहा कि हम सब जनसेवक हैं और जनता को विकास से जोड़ते हुये उनकी समस्याओं का निराकरण करना हमारा दायित्व है। श्री रौतेला ने वन महकमे की समीक्षा करते हुये कहा कि ग्रामीण आर्थिक विकास में वन पंचायतों की अहम भूमिका है लेकिन इन वन पंचायतों में लंबे समय में चुनाव न होने के कारण अधिकांश वन पंचायतें निष्क्रिय हैं। उन्हें सक्रिय एवं आर्थिक संपन्न बनाने के लिये सभी जिलाधिकारी वन पंचायतों में नये सिरे से निर्वाचन कराकर उन्हें सक्रिय करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने जिलाधिकारियों से कहा कि वह अपने समीक्षा बैठकों एवं निरीक्षण के दौरान चिकित्सालयों एवं विद्यालयों का निरीक्षण करें तथा स्वास्थ्य एवं शिक्षा महकमेां की समीक्षा भी करें। उन्होंने निदेशक स्वास्थ्य कुमाऊं को निर्देश दिये कि वे चिकित्सालय के लिये जो भी उपकरण खरीदें उनकी अनुरक्षण करार अनिवार्य रूप से करायें ताकि उपकरणों के खराब होने पर तत्काल अनुरक्षण कराकर जनोपयोगी बनाये जा सकें। उन्होंने कहा कि चिकित्सालयों में नि:शुल्क दवायें उपलब्ध कराई जाये तथा चिकित्सक अनावश्यक बाहर की दवायें कतई नहीं लिखेंगे। उन्होंने निदेशक स्वास्थ्य डा. आरके पांडे से कहा कि उधमसिंह नगर में जो डिजीटल एक्सरे मशीन जो निष्प्रयोज्य हो चुकी है उसके स्थान पर नई मशीन क्रय किये जाने का प्रस्ताव शासन को भेजना सुनिश्चित करें। उन्होंने मुख्य अभियंता जल संस्थान, जल निगम को पिथौरागढ़ में पूर्ण हो चुकी ऑवला घाट पम्पिंग पेयजल योजना का तुरंत पूरी क्षमता का उपयोग कर पिथौरागढ़ में जलापूर्ति कराने के निर्देश दिये। उन्होंने हल्द्वानी में खराब नलकूपों को शीघ्र ठीक कराते हुये पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये। आयुक्त ने मुख्य वन संरक्षक कुमाऊ कपिल जोशी को निर्देश दिये कि वह वन उपजों के अवैध दोहन पर पूर्ण प्रतिबंध लगायें तथा विकास कार्यो के लंबित वनभूमि हस्तान्तरण प्रकरणों के निस्तारण शीघ्रता से करायें। उन्होंने नदियों में हो रहे अवैध खनन की शिकायतों को गम्भीरता से लेते हुये जिलाधिकारी, आरएम वननिगम व आरटीओ को निर्देश दिये कि वह नियमित सघन जांच कर अवैध खनन पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना सुनिश्चित करें। उन्होंने क्षेत्रीय खाद्य नियंत्रक को निर्देश दिये कि वे गेहूं खरीद का भुगतान शीघ्रता से करायें तथा जनपदों को उनकी मांग के अनुसार गुणवत्ता युक्त खाद्यान समय से उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने क्षेत्रीय सेवायोजन अधिकारी एचएस रावत को निर्देश देते हुये कहा कि वह मंडल के सभी जनपदों में रोजगार मेलों का आयोजन करायें। श्री रौतेला ने श्रम विभाग की समीक्षा के दौरान उपश्रमायुक्त अनिल पेटवाल को निर्देश दिये कि श्रम हितों का ध्यान रखा जाय तथा ऐसी जानकारी मिल रही है कि विभिन्न संस्थाओं एवं दुकानों में कार्यरत श्रमिकों को अनिवार्य रूप से एक दिन का अवकाश मिलना चाहिये इसका नियमित निरीक्षण किया जाय तथा शिकायत प्राप्त होने पर संबंधित नियोक्ता के विरूद्ध श्रम अधिनियम में कारवाई की जाय। बैठक में डीएम नैनीताल विनोद कुमार सुमन, डा. नीरज खैरवाल, डा. अहमद इकबाल, ईवा आशीष श्रीवास्तव, रंजना राजगुरू, ़सी रविशंकर, सम्भागीय खाद्य नियंत्रक ललित मोहन रयाल, अपर निदेशक प्रशिक्षण आरडी पालीवाल, अपर आयुक्त संजय खेतवाल, सीडीओ प्रकाश चन्द्र, मयुर दीक्षित, वंदना सिंह, आलोक पांडे, एसएस बिष्ट, श्याम सुंदर सिंह पांगती व संबंधित मंडलीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

 
नैनी झील की हालत से आयुक्त चिंतित
नैनीताल। मंडलीय बैठक में आयुक्त ने कहा कि नैनी झील सरोवर नगरी की अनूठी पहचान है लेकिन कुछ वर्षो से नैनी झील का गिरता जलस्तर एक चिन्ता का विषय है। नैनी झील में यथासम्भव जल संचय एवं जल संभरण हो इसके लिये हमें प्राकृतिक वर्षा के साथ ही अपने नैतिक दायित्वों का निर्वहन करते हुये नैनी झील में विभिन्न स्रोतों से प्राप्त होने वाले जल को भी पहुंचाना होगा। शहरवासियों एवं पर्यटकों से आयुक्त ने अपील करते हुये कहा कि दैनिक दिनचर्या के लिये नैनीझील से जलापूर्ति की जा रही है ऐसे में हम सभी को चाहिये कि पानी के दुरूपयोग को रोकें और कम से कम पानी में काम चलायें। उन्होंने जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन से कहा कि इसके लिये स्थानीय होटल एसोसियेशन, विद्यालयों, तथा स्वयंसेवी संगठनों के माध्यम से जन जागरूकता अभियान चलाया जाय तथा पानी की बचत के लिये सूचना प्रधान बोर्ड एवं स्टीकर सार्वजनिक स्थानों एवं होटल, विद्यालयों में लगाये जायें।

 

 

 

लोगों ने एडीबी अधिकारियों को घेरा
नैनीताल। नगरीय पेयजल सुदृढ़ीकरण योजना के निर्माण के बाद शहर व नगर के विभिन्न स्थानों में उभरे पेयजल संकट से क्रुद्ध लोगों ने भाजपा नेता अरविंद पडियार के नेतृत्व में एडीबी जल निगम के कार्यदायी एजेंसी के लोगों का घेराव किया। इस अवसर पर पडियार ने कहा कि एडीबी द्वारा करोड़ों रूपयों की लागत से पेयजल योजना बनायी गयी है। लेकिन वह भ्रष्टाचार के भेंट चढ़ चुकी है। नगर में लगातार पेयजल संकट गहरा रहा है। कई स्थानों में हफ्तों से पानी की आपूर्ति नही हो रही है। इसके अलावा जगह-जगह पानी की बर्बादी हो रही है। लेकिन सूचना देने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। उन्होंने एडीबी अधिकारियों पर यह भी आरोप लगाया कि स्थानीय ठेकेदारों से कार्य कराने के बाद उनका भुगतान रोका गया है। उन्होंने चेतावनी दी कि स्थानीय ठेकेदारों का भुगतान नहीं किया गया तो इसका कड़ा विरोध किया जायेगा। इस अवसर पर शिवसेना के भूपाल कार्की, भाजपा के भूपेन्द्र बिष्ट, भुवन बिष्ट, भवान सिंह मेहरा सहित कई लोग मौजूद थे।

About saket aggarwal

Check Also

बगवाड़ा पुलिस की जुआरियों के ठिकानों पर दबिश

मची भगदड़, चार जुआरी दबोचे,एक फरार, 13 हजार 200 की नगदी बरामद पुष्कर के गोदाम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *