Breaking News
Home / Breaking News / रुद्रपुर : झूठ की बुनियाद पर टिकी है केन्द्र केन्द्र सरकार
पत्रकारों से वार्ता करते पूर्व स्वास्थ्य मंत्री बेहड़ व साथ में बैठे पार्टी पदाधिकारी

रुद्रपुर : झूठ की बुनियाद पर टिकी है केन्द्र केन्द्र सरकार

रुद्रपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 14 फरवरी को रुद्रपुर के प्रस्तावित दौरे को पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़ ने ढकोसला करार दिया है। बेहड़ का आरोप कि हर मोर्चे पर फेल हो चुकी केन्द्र सरकार के मुखिया जनता के बीच आने का अधिकार खो चुके हैं। कहा कि झूठ की बुनियाद पर टिकी यह सरकार अब कुछ ही दिनों की मेहमान है। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले भी पीएम मोदी ने रुद्रपुर में अपनी जुमलेबाजी चलाई थी, ठीक उसी तरह जिस तरह 2014 के आम चुनाव में उन्होंने झूठे सपने दिखाकर देश की सत्ता हथियाई थी। आज प्रधानमंत्री मोदी के पास अपनी उपलब्धि गिनाने के नाम पर कुछ नहीं है। वह सिर्फ गांधी नेहरू परिवार पर अभद्र टिप्पणी कर और जात-पात की राजनीति से दोबारा देश में सरकार बनाना चाहते हैं। इसके साथ ही बेहड़ ने प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के नेताओं से जनता के चन्द सवाल पूछे हैं। बेहड़ द्वारा मोदी से पूछे गये सवालों में अयोध्या में राम मन्दिर बनाने के वादे का क्या हुआ, धारा 370 हटाने के वादे का क्या हुआ, देश में अच्छे दिन कब आयेंगे, पेट्रोल-डीजल, घरेलू गैस की मार झेल रहे आम लोगों से सरकार अपना पांच साल पुराना वादा कब पूरा करेगी आदि शामिल हैं। बेहड़ का कहना था कि विदेशों से काला धन कब वापिस लाने का वायदा कर भारतीयों के खाते में 15 लाख रुपये डाले जायेंगे, देश के युवाओं को हर साल दो करोड़ रोजगार देने का वादा भी पूरा नहीं हुआ। कहा गंगा की सफाई के नाम भी सरकार की घोषणा हवाई साबित हुई, सांसदों द्वारा गोद लिये गये आदर्श गांवों की तस्वीर बदलने के वादे का क्या हुआ, किसानों के हित के लिये फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य स्वामीनाथन रिपोर्ट के मुताबिक कब बढ़ाया जायेगा, नोटबंदी से क्या हासिल हुआ और कितने आतंकवादियों की कमर टूटी व नकली नोटों का धंधा कितना कम हुआ। उन्होंने कहा सरकार राफेल पर जेपीसी बनाने से डर रही है। देश की सीबीआई जैसी कई विभागों की स्वायत्तता संदेह के घेरे में है और उनके अफसर इस्तीफे दे रहे हैं। भूमि का मालिकाना हक देने का भी वादा विफल हो रहा है। स्वच्छ भारत अभियान के तहत रुद्रपुर में एक अदद ट्रंचिंग ग्राउण्ड भी नहीं बन पाया है। बेहड़ ने कहा कि उज्जवला योजना के अन्तर्गत बाटे गये गैस सिलेन्डर 85 प्रतिशत से भी ज्यादा दोबारा भरने नहीं आये यह कैसा विकास है देश के गरीबों का। उन्होंने कहा कि यदि सरकार की नीतियां इतनी ही अच्छी हैं तो क्यों उत्तराखण्ड के 10 से ज्यादा अन्नदाता किसानों ने आत्महत्या की। बेहड़ ने कहा वह देश के प्रधानमंत्री से क्षेत्र के किसानों व जनता की समस्याओं से बावत ज्ञापन देना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि अगर कार्यक्रम भाजपाई है तो वह इसका विरोध करेंगे। इस मौके पर पूर्व पालिकाध्यक्ष मीना शर्मा, महानगर अध्यक्ष जगदीश तनेजा, प्रदेश महासचिव हिमांशु गाबा, परिमल राय, नंदलाल प्रसाद, सौरभ चिलाना, हरनाम सिंह नारंग, सुक्खा सिंह आदि मौजूद थे।

About saket aggarwal

Check Also

कालाढूंगी : नशे के खिलाफ ग्रामीणों ने खोला मोर्चा

कालाढूंगी। कई गावों के पुरुष व महिलाओं ने नशाखोरी के विरुद्ध तहसील पहुंचकर धरना दिया। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *