Home / Breaking News / रुद्रपुर: दुष्कर्म के आरोपी को दस वर्ष का कारावास

रुद्रपुर: दुष्कर्म के आरोपी को दस वर्ष का कारावास

रुद्रपुर। नाबालिग लड़की का अपहरण कर उसके साथ शादी का झांसा देकर लगभग 10 दिनों तक दुराचार के आरोपी युवक को पाक्सो न्यायाधीश विजय लक्ष्मी विहान ने 10 वर्ष के कारावास और 90000 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता विकास गुप्ता ने बताया कि काशीपुर क्षेत्र निवासी एक व्यक्ति ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में कहा कि पांच दिसम्बर 2017 को उसकी 15 वर्षीय नाबालिग पुत्री को ग्राम नन्दरामपुर थाना आईटीआई काशीपुर निवासी 27 वर्षीय प्रमोद पुत्र रमेश शादी का झांसा देकर बहला फुसलाकर अपहरण कर लिया। बैंगलोर ले जाकर 10 दिनों तक उसके साथ शारीरिक संबंध बना दुराचार करता रहा। विरोध करने पर मारपीट करता था, लड़की के जिद करने पर 16 दिसम्बर 2017 को प्रमोद उसे जैसे ही काशीपुर लेकर आया तो रोडवेज पर ही पुलिस ने दोनों को पकड़ लिया था। पुत्री का मेडिकल कराने के बाद पुलिस ने पाक्सो अधिनियम के तहत आरोपी का चालान कर जेल भेज दिया। कोर्ट से उसकी जमानत हो गयी। आरोपी प्रमोद के विरुद्ध पाक्सो न्यायाधीश विजय लक्ष्मी विहान की कोर्ट में मुकदमा चला। कोर्ट में सुनवाई के दौरान एडीजीसी विकास गुप्ता ने नौ गवाह पेशकर आरोप सिद्ध कर दिया। पाक्सो न्यायाधीश विजय लक्ष्मी विहान ने दुराचारी प्रमोद को पाक्सो अधिनियम के तहत 10 वर्ष के कारावास व 50000 रुपये जुर्माना, धारा 363 के तहत तीन वर्ष के कठोर कारावास व 20000 रुये जुर्माना और धारा 366 के तहत 7 वर्ष के कठोर कारावास व 20000 हजार जुर्माना की सजा सुनाई। सजा के बाद उसे जेल भेज दिया। न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा है कि जुर्माने की धनराशि में से 90 प्रतिशत धनराशि पीडि़ता को दी जाये।

About saket aggarwal

Check Also

नागरिक संशोधन बिल के विरोध में भाकपा(माले) का प्रदर्शन

हल्द्वानी। मानवाधिकार दिवस के अवसर पर भाकपा(माले) द्वारा घोषित राष्ट्रीय प्रतिवाद दिवस पर बुद्धपार्क में …