Home / Breaking News / हल्द्वानी : खुलेआम हो रहा आचार संहिता का उल्लंघन

हल्द्वानी : खुलेआम हो रहा आचार संहिता का उल्लंघन

हल्द्वानी। लोकसभा चुनाव को लेकर जहां एक ओर पुलिस आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन को लेकर सख्ती बरतने की बात करती आई है वहीं दूसरी ओर पुलिस की नाक के नीचे ही खुलेआम आचार संहिता का उल्लंघन हो रहा है। सरेशाम हथियार लहराये जा रहे हैं, लेकिन पुलिस मौके से आरोपी को उठाने के बाद भी कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाती। पुलिस तर्क देती है कि मानसिक रूप से विक्षिप्त युवक धारदार हथियार लहरा रहा है। ऐसे में शस्त्र कहां से आया यह जानने की जहमत पुलिस नहीं उठाती है।
गौरतलब है कि इन दिनों लोकसभा चुनाव को चलते आदर्श आचार संहिता प्रभावी है जिसके चलते पुलिस विशेष सतर्कता बरतने का दावा कर रही है। इसके तहत पुलिस ने लाइसेंसी शस्त्र भी जमा कराने की बात कही थी जो चुनाव संपन्न होने के बाद भी अभी तक पूर्णतया जमा नहीं हुए हैं। इसमें घर का भेदी लंका ढावे वाली कहावत भी चरितार्थ हुई। तात्पर्य है पुलिस कर्मियों के लाइसेंसी शस्त्र जमा न होने का। भले ही लोक सभा चुनाव का मतदान यहां शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो चुका हो, लेकिन आचार संहिता अभी भी प्रभावी है। ऐसे में न तो चार-पांच से अधिक लोग ग्रुप में घूम सकते हैं और न ही कोई शस्त्र इधर से उधर ले जा सकता है। इसके अलावा धरना-प्रदर्शन पर भी पूर्णतया प्रतिबंध है। ऐसे में बीती रात कोतवाली से करीब सौ मीटर की दूरी पर स्थित नगर के व्यस्ततम इलाके व राष्ट्रीय राजमार्ग से लगे सरस मार्केट में शस्त्र की नोंक पर आतंक फैलाने से दहशत फैल गई। दरअसल हुआ यूं कि देर शाम सरस मार्केट स्थित बीकानेर वाला में एक युवक खुखरी लेकर घुस गया। उसने गार्ड की गर्दन में खुखरी टिका दी इससे वहां भगदड़ मच गई। इस मामले को गार्ड भी समझ नहीं पाया और मौका पाते ही वह बाथरूम में जाकर छिप गया इसकी सूचना किसी ने पुलिस को दे दी। मौके पर पुलिस पहुंची और आरोपी को हिरासत में ले लिया गया उसके पास से खुखरी तक बरामद कर ली गई। उसे कोतवाली लाया गया और बाद में यह कहकर छोड़ दिया गया कि वह मानसिक रूप से विक्षिप्त है जबकि प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि युवक शराब के नशे में धुत था और वह पुलिस के समक्ष अपना नाम विष्णु बता रहा था ऐसे में पुलिस ने आखिर उसे क्यों छोड़ा यह बड़ा सवाल है। आखिर विक्षिप्त के पास धारदार हथियार कहां से आया यह सोचनीय विषय है। ऐसे में कोतवाली पुलिस के साथ-साथ पुलिस बहुद्देशीय भवन में बैठने वाले अधिकारियों से लेकर एसएसपी व डीआईजी तक की कार्यप्रणाली पर लोग सवालिया निशान लगाने लगे हैं।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी: चोर की सीसीटीवी फुटेज मौजूद, फिर भी नहीं हो रही कार्रवाई

हल्द्वानी। पुलिस चोरी की घटनाओं का खुलासा करना तो दूर मुकदमे दर्ज करना तक मुनासिब …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *