Home / Breaking News / नैनीताल: गुफा महादेव में लिंग में अनवरत बहती जल धारा करती है जलाभिषेक

नैनीताल: गुफा महादेव में लिंग में अनवरत बहती जल धारा करती है जलाभिषेक

 

अपनी खास विशेषता के लिए जाना जाता है प्राचीन गुफा महादेव मंदिर

चन्द्रेक बिष्ट, नैनीताल । विशेष आयोजनों दौरान हिमालय क्षेत्र के शिवधामों की महत्ता बढ़ जाती है। नैनीताल के गुफा महादेव मंदिर में भी शिवरात्रि व श्रावणी मास में शिव भक्तों का जमावड़ा लग जाता है। मान्यता है कि गुफा महादेव मंदिर में शिव साक्षात विराजते है। उत्तराखंड के गढ़वाल व कुमाऊं में शिव लिंगों की पूजा की जाती है। नैनीताल के एक मात्र मान्यता प्राप्त गुफा महादेव मंदिर को शिवभक्त गुफाओं में स्थित शिव की तरह मान्यता देते है। इन दिनों गुफा महादेव मंदिर में शिव पूजा को भक्तजन पहुंच रहे है। शिवरात्रि को यहां शहर के ही नही बल्कि आसपास के गांवों के लोग भी काफी संख्या में पूजा अर्चना के लिए पहुंचते है। त्रिऋषि सरोवर के नाम से पुराणों में अंकित नैनीताल में स्थित प्राचीन गुफा महादेव मंदिर भी अपनी खास विशेषता के लिए जाना जाता है। इस मंदिर की गुफा में स्थित शिव लिंग में अनवरत बहती जल धारा जलाभिषेक करती है। इस प्राकृतिक रूप को देख श्रद्धालु आकंठ आत्मविभोर हो उठते है। इस दौरान श्रद्धालु महादेव में लीन होकर पूजा करते है। महा शिवरात्रि पर्व के लिए मंदिर में जोरदार तैयारी की जा रही है। मंगलवार को महादेव मंदिर में सुबह से ही पूजा अचना का क्रम शुरू हो जायेगा।

 

प्रथम बार 1892 में स्व. कृष्णा साह ने की मंदिर में पूजा

नैनीताल। गुफा महादेव मंदिर का अस्तित्व आदिकाल से रहा होगा। मौजूदा इतिहास के मुताबिक नैनीताल वीरभट्टी मार्ग में स्थित कृष्णापुर स्टेट के मालिक स्व. कृष्णा साह को 1892 में स्वप्न में भान हुआ कि उनकी स्टेट के निकट शिव अदृश्य होकर ध्यान मग्न है। उन्हें यह भी आभास हुआ कि शिव सैकड़ों वर्षो से तपस्या कर रहे है। स्वप्न में बताये गये स्थान में जब उन्होंने खुदाई की तो लगभग 12 फीट गहरी गुफा में तीन शिवलिंग देखे गए। जिनके ऊपर जलधारा अनावरत जलाभिषेक कर रही है। इसके बाद कृष्णा साह ने यहां मंदिर की सथापना की। लिंगो में अनवरत जलाभिषेक का प्राकृतिक दृश्य आज भी दृष्टिगोचर होता है। इस मंदिर के दर्शन को पूरे साल भक्तों की भीड़ लगी रहती है लेकिन श्रावण मास को यहां भक्तों का तांता लगा रहता है। गुफा इतनी सकरी है कि गर्भ गृह में पूजा के लिए एक बार एक ही भक्त जा सकता है।

 

 

साधना को विशिष्ट रूप से प्रसिद्ध रहा है गुफा महादेव

नैनीताल। कश्मीर के अमरनाथ गुफा की तरह नैनीताल का गुफा महादेव मंदिर साधना के लिए भी विशिष्ट रूप से प्रसिद्ध रहा है। यहां शिव को महायोगी व मतयनाथ के रूप में भी पूजा जाता है। सन् 1934-35 में नेपाल जनकपुरी से आये ब्रहमचारी महाराज ने साधना की थी। उसके बाद उनके शिष्य हीरानंद ने भी इस मंदिर में साधना की थी। इनका धनौरा मुरादाबाद में भव्य मंदिर है। इसके अलावा मोहनगिरी महाराज, गिरी महाराज ने भी इसी स्थान पर साधना की थी। आज भी यहां कई साधु साधना के लिए पहुंचते हैं।

 

सिद्धेश्वर मंदिर में महाशिवरात्रि को होगी विधिवत पूजा

नैनीताल। मल्लीताल हंस निवास में स्थित सिद्धेश्वर मंदिर के जीर्णोद्वार के बाद महाशिवरात्रि के दिन विधिवत पूजा अर्चना व 14 फरवरी को विशाल भंडारे का आयोजन किया जा रहा है। मंदिर के जीर्णोद्वार के बाद पूजा अर्चना कार्यक्रम की तैयारी में जुटे अधिवक्ता संजय सुयाल, विनोद पांडे ने बताया कि शिवरात्रि के दिन गणेश पूजा, पंचाग कर्म, मूर्ति पूजन, शिवपूजन, रूद्राभिषेक, हवन तथा 14 फरवरी को सुंदर कांड व बाद में भंडारा आयोजित होगा।

About saket aggarwal

Check Also

तिवारी का अंतिम संस्कार कल, पुलिस मुस्तैद

हल्द्वानी। पूर्व सीएम नारायण दत्त तिवारी के अन्तिम दर्शन/अन्तेष्टि हेतु सुरक्षा एवं यातायात व्यवस्था को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *