Home / Uttatakhand Districts / Almora / उत्तराखंड: मूसलाधार बारिश ने बढ़ाई किसानों के चेहरों की रौनक

उत्तराखंड: मूसलाधार बारिश ने बढ़ाई किसानों के चेहरों की रौनक

नरेन्द्र देव सिंह, हल्द्वानी। उत्तराखंड में मानसून और प्री मानसून की सामान्य से कम बारिश अभी तक हुई है। राज्य के 11 जिलों में अभी तक सामान्य से कम बारिश हुई है। इनमें से सात जिलों में तो काफी कम बारिश हुई है। इस बीच हो रही मूसलाधार बारिश राहत लेकर आयी है। मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले 48 घंटों तक राज्य के कई क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश होगी। मौसम विभाग ने अगले तीन दिन प्रदेश के सात जिलों में भारी बारिश की आशंका जताई है। विभाग ने संबंधित जिला प्रशासन को अलर्ट भेजा है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने अलर्ट जारी करते हुये कहा कि बुधवार को प्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश हो सकती है जबकि बाकी इलाकों में बादल छाए रहेंगे। बताया कि 27 जुलाई तक कई इलाकों में भारी बारिश का सिलसिला जारी रहेगा। उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, ऊधम सिंह नगर, नैनीताल तथा पिथौरागढ़ जिलों के लिए अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग की भविष्यवाणी सही साबित हुई और राज्य के कई हिस्सों में आज सुबह से ही मूसलाधार बारिश हो रही है। हल्द्वानी में बीती शाम से बारिश का दौर शुरू हुआ और आज सुबह से तेज बारिश हो रही है। यह बारिश काश्तकारों के लिये राहत लेकर आयी है क्योंकि उत्तराखंड में अभी तक सामान्य से काफी कम बारिश हुयी है। इस साल प्री मानसून की बारिश तो अच्छी हुई लेकिन मानसून सक्रिय होने के बाद से एक माह तक अपने पूरे रंग में नहीं दिखा है। हाल यह है कि राज्य के 13 में से 11 जिलों में अभी तक (1 जून से 25 जुलाई तक) सामान्य से कम बारिश हुयी है। पौड़ी जिले में सामान्य से 65 प्रतिशत कम, अल्मोड़ा जिले में सामान्य से 58 प्रतिशत कम, ऊधमसिंह नगर जिले में सामान्य से 46 प्रतिशत कम, टिहरी जिले में सामान्य से 42 प्रतिशत कम बारिश हुई है। इनके अलावा हरिद्वार जिले में 27, नैनीताल जिले में 24, चम्पावत जिले में 21, देहरादून जिले में 17, उत्तरकाशी जिले में 15 और पिथौरागढ़ जिले में सामान्य से 5 प्रतिशत कम बारिश हुयी है। केवल बागेश्वर जिले में सामान्य से 66 प्रतिशत ज्यादा, चमोली जिले में सामान्य से 52 प्रतिशत ज्यादा बारिश हुयी है। राज्य में पर्वतीय क्षेत्रों में ज्यादातर किसान अपने खेतों में सिंचाई के लिये बारिश पर ही निर्भर हैं। ऐसे में यह मूसलाधार बारिश राहत लेकर आयी है।

About saket aggarwal

Check Also

हल्द्वानी: एक और कैदी की उपचार के दौरान मौत

हल्द्वानी। उप कारागार में बंद कैदियों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *