Breaking News
Home / Uttatakhand Districts / Almora / कोसी नदी पुर्नजनन को 17.39 करोड़ की डीपीआर: डीएम

कोसी नदी पुर्नजनन को 17.39 करोड़ की डीपीआर: डीएम

अल्मोड़ा। जिलाधिकारी व कोसी पुर्नजनन अभियान समिति की अध्यक्ष इवा आशीश ने विकास भवन में आयोजित कोसी नदी पुर्नजनन एवं स्वच्छता जागरूकता अभियान कार्यशाला का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिए कोसी कैचमेंट एरिया को 14 रिचार्ज जोनो में बांटा गया है। जिसके लिए 14 नोडल अधिकारी नामित किये गये हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि कोसी नदी पुर्नजनन के लिए एक डीपीआर बनायी गयी है जो

17.39 करोड़ की है। इससे वनो में पारम्परिक फलदार वृक्षों का रोपण तथा चाहरदीवारी, तार-बाड़, चाल-खाल बनाये जायेंगे।

जिलाधिकारी ने कहा कि इस अभियान में ग्राम्य विकास, पंचायती राज विभाग, वन विभाग, सिंचाई, जल निगम, जल संस्थान, उद्यान, कृशि विभाग आपस में समन्वय बनाकर काम करेंगे साथ ही हिमालयन पर्यावरण संस्थान एवं विवेकानन्द कृशि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक अपने तकनीकी सहयोग व अनुभवों का लाभ देंगे। इस अवसर पर डॉ. जेएस रावत ने पावर पाइंट के माध्यम से कोसी नदी की वर्तमान दशा व इसके पुर्नजनन के बारे में किये जाने वाले कार्यों के बारे में विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि विगत 24 जून, 2017 को प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के समक्ष पावर पाइंट के माध्यम से कोसी नदी के पुर्नजनन के बारे में बताया गया। उन्होंने इस को गम्भीरता से लेते हुए इसके पुर्नजनन का निर्णय लिया। जिसके परिणामस्वरूप प्रदेश में रिस्पना नदी एवं इस जनपद की कोसी नदी के पुर्नजनन के लिए चुना गया। विगत 12 दिसम्बर, 2017 को प्रदेश के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह के अल्मोड़ा आगमन पर कोसी नदी कैचमेंट एरिया क्षेत्र में आने वाले 14 स्थानों का विस्तृत डीपीआर बनाने के निर्देश दिये। इस अवसर पर पं. गोविंद बल्लभ पंत पर्यावरण संस्थान के वैज्ञानिक डॉ. डीएस रावत ने संस्थान द्वारा पूर्व में किये गये कार्यों व वर्तमान में जो कार्य किये जायेंगे उसके बारे में विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। विवेकानन्द पर्वतीय कृशि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक डॉ. यादव, वनाधिकारी पंकज कुमार ने अपने अनुभवों को बताया। जिला पंचायत राज अधिकारी जितेंद्र कुमार ने पंचायत विभाग इस कार्य में बढ़चढ़ कर सहभागिता करेगा इसके लिए विभाग ने कार्य योजना बना दी है।इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि मनरेगा के माध्यम से कोसी पुर्नजनन के लिए कार्य किया जायेगा। इस अवसर पर परियोजना निदेशक ग्राम्य विकास नरेश कुमार, खंड विकास अधिकारी हवालबाग पंकज काण्डपाल, ताकुला मोहन सिंह बिश्ट सहित इस अभियान से जुड़े विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे। संचालन जिला विकास अधिकारी मोहम्मद असलम ने किया।

About saket aggarwal

Check Also

यूपी कान्स्टेबल भर्ती परीक्षा में हाईटेक नकल की थी तैयारी, 16 गिरफ्तार

इलाहाबाद/गोरखपुर (एजेंसी)। उत्तर प्रदेश पुलिस ने प्रवेश परीक्षाओं में नकल कराने वाले एक हाईटेक गिरोह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *