Breaking News
Home / Breaking News / जीर्णोंद्धार के नाम पर नैनीताल शहर में हो रहा कमरों का निर्माण

जीर्णोंद्धार के नाम पर नैनीताल शहर में हो रहा कमरों का निर्माण

उत्तरांचल दीप ब्यूरो, नैनीताल। हाई कोर्ट के आदेशों के बाद नैनीताल शहर सहित झीलों की दो किमी परिधि में नये निर्माणों पर रोक है। लेकिन प्राधिकरण की लापरवाही के चलते नैनीताल में इन दिनों भवनों के जीर्णोद्धार के नाम पर भवनों का विस्तार करने के साथ ही अतिरिक्त कमरों का निर्माण किया जाना जोरों पर है। नैनीताल के कई हिस्सों में खुले आम इस तरह के निर्माण कार्यों को अंजाम दिया जा रहा है। दूसरी ओर मध्यम व निर्धन तबके को खिड़की बदलने तक को प्राधिकरण कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ रहे है। प्राधिकरण के अधिकारियों का कहना है कि जो भी निमार्ण कार्य हो रहे हैं उनके पूर्व में नक्शे स्वीकृत किये गये होंगे।
पिछले दिनों प्राधिकरण द्वारा अभियान चला कर अवैध निर्माणों पर भी हथौड़ा चलाया। इसके बावजूद कई स्थानों में भवन निर्माण गुपचुप तरीके से हो रहे है। निर्माण की तस्दीक इस बात से भी हो जाती है कि प्रतिबंध के बावजूद हल्द्वानी व कालाढूंगी से हर रोज निर्माण सामग्री लेकर दर्जनों पिकप शहर पहुंच रहे है। प्राधिकरण कर्मियों की संलिप्तता के बगैर इस तरह के कार्य नही हो सकते है। शहर के ग्रीन बेल्ट व डेंजर जोन में नक्शा पास नहीं होने के बाद धनाढ्य निर्माणकर्ताओं में इतना साहस हो गया है कि वह प्रशासन, प्राधिकरण व यहां तक हाई कोर्ट के आदेशों की भी परवाह नहीं कर रहे है। नव निर्माण लिए हाई कोर्ट द्वारा भी पूर्व में आदेश जारी किये हैं इस बात का सहज ही अदांजा लगाया जा सकता है कि जब प्रतिबंधित क्षेत्रों में निर्माण किये जा रहे है। जो अन्य क्षेत्रों की हालत क्या होगी। हालत तो यह है कि शहर के कई क्षेत्रों में भवन मरम्मत के नाम पर कमरों का निर्माण किया जा रहा है। प्राधिकरण के लोग इससे लगातार दूरी बनाये रखे हुए है। प्राधिकरण व प्रशासन की ओर से कई बार यह निर्णय लिया गया है कि हल्द्वानी व कालाढुंगी मार्ग से निर्माण सामग्री लाने वाले वाहनों की चैंकिंग कर अवैध निर्माण पर अंकुंश लगाया जायेगा। लेकिन ऐसा कभी नहीं हो सका है। एक ओर नैनीताल में भवन निर्माण प्रतिबंधित होने की बात की जाती है तो दूसरी ओर नैनीताल में प्रतिदिन एक दर्जन से अधिक यूटीलिटी निर्माण सामग्री लेकर आ रहे है। इसके अलावा यहां हाईवे व कालाढुंगी मार्ग के कई स्थानों में निर्माण सामग्री एकत्र कर उसकी बिक्री की जा रही है। प्राधिकरण व प्रशासन इसमें अकुंश लगाने में नाकाम साबित हो रहा है। इस संबंध में प्राधिकरण के परियोजना इंजीनियर चन्द्रमोली साह का कहना है कि जो भी निमार्ण कार्य हो रहे हैं उनके पूर्व में नक्शे स्वीकृत किये गये होंगे। इन निर्माणों की जांच की जायेगी।

About saket aggarwal

Check Also

किच्छा:गुस्साये लोगों ने रुकवाया निर्माण कार्य

किच्छा। एनएच विभाग व गल्फार कंपनी द्वारा करीब डेढ़ वर्ष पूर्व नगर के बाईपास स्थित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *