Home / Breaking News / नैनीताल: प्रशासन ने आठ अतिक्रमण किए ध्वस्त

नैनीताल: प्रशासन ने आठ अतिक्रमण किए ध्वस्त

 

नैनीताल। हाई कोर्ट के आदेशों के बाद बीते दिन भवाली चिल्ड्रन पार्क में हुए अतिक्रमण को हटाने गये तहसीलदार की टीम को बैंरंग वापस कर दिये जाने के बाद बुधवार को एडीएम हरबीर सिंह के नेतृत्व में भवाली पहुंची। प्रशासनिक व पुलिस टीम ने चिल्ड्रन पार्क में अतिक्रमण कर बनाये गये आठ निर्माणों को दो जेसीबी मशीनों की मदद से ध्वस्त कर दिया। इस दौरान वहां एक अतिक्रमणकारी नीरू देवी व अन्य लोगों ने जमकर विरोध करना शुरू कर दिया। बाद में नीरू देवी के अतिक्रमण को छोड़ कर इसकी जांच करने के आदेश सीडीओ की ओर से दे दिये गये। लेकिन भारी पुलिस बल के कारण लोगों का विरोध काम नहीं आया। मालूम हो कि बीते दिन तहसीलदार कृष्ण कुमार व पटवारी अतिक्रमण हटाने मौके पर पहुंचे लेकिन भवाली व्यापार मंडल के अध्यक्ष नरेश पांडे के नेतृत्व में व्यापारियों के विरोध के चलते टीम वापस आ गई। बुधवार को एडीएम के नेतृत्व में पीएसी, महिला पुलिस, भवाली पुलिस सहित प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गये। इससे पूर्व पुलिस ने शांति भंग होने की संभावना को देखते हुए भवाली व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजय पांडे को हिरासत में ले लिया। इसके बाद प्रशासन की टीम ने भवाली चिल्ड्रन पार्क में हुए अतिक्रमण को जेसीबी मशीनों से ध्वस्त करना शुरू कर दिया। इस दौरान अतिक्रमणकारियों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया लेकिन भारी फोर्स की मौजूदगी में विरोध अधिक नहीं चल पाया। लगभग एक घंटे की इस कार्रवाई में मौके पर भीड़ एकत्र हो गई। इस दौरान महिला व पुरुष पीएसी के साथ ही भवाली के कोतवाल दानू सहित भारी मात्रा में पुलिस बल मौजूद था। अतिक्रमण हटाने वाली टीम में संयुक्त मजिस्ट्रेट अभिषेक रोहिला, एएसपी हरीश चन्द्र सती, तहसीलदार कृष्ण कुमार क्षेत्र के पटवारी सहित अनेक लोग मौजूद थे। मालूम हो कि भवाली निवासी स्व. अनिल बिष्ट ने पूर्व में भवाली चिल्ड्रन पार्क में हुए अतिक्रमण को हटाने के लिए जनहित याचिका दायर की थी। उनकी मृत्यु के बाद हाई कोर्ट ने भवाली चिल्ड्रन पार्क में हुए अतिक्रमण को हटाने के निर्देश पिछले सप्ताह दिये थे।

About saket aggarwal

Check Also

स्टिंग की सीडी जारी करें सीएम: कांग्रेस

डोईवाला/ब्यूरो। कांग्रेस ने कहा कि जुमलेबाजों की सरकार ने आम लोगों का जीना मुहाल कर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *