Breaking News
Home / Breaking News / नैनीताल: सैलानियों के वाहनों से लगता रहा जाम

नैनीताल: सैलानियों के वाहनों से लगता रहा जाम

पर्यटन स्थलों में लगा पर्यटकों तांता

उत्तरांचल दीप ब्यूरो,नैनीताल। रविवार को नैनीताल सहित पर्वतीय क्षेत्रों में बादल छाये रहने से मौसम बदला रहा। बीते दिनों से दोपहर बाद हो रही वर्षा के कारण तापमान में गिरावट आ गई। रविवार को सुबह धूप खिलने के साथ ही यहां बादल छाने लगे। सुहावने मौसम के बीच सरोवर नगरी खिल उठी। सुबह सायं यहां ठंड बढऩे के कारण मई माह में फिर गर्म कपड़े निकल गये हैं। फिलहाल बदलते मौसम का लोग आनंद उठा रहे हैं। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार पहाड़ी क्षेत्रों में अगले 24 घंटों में वर्षा हो सकती है। इधर नैनीताल पहुंचे सैलानियों के कारण आसपास के इलाके भी गुलजार रहे। मिले-जुले मौसम के बीच भी देश ही नहीं विदेश से भी पर्यटक काफी संख्या में नैनीताल घूमने पहुंचे। नैनीताल चिडिय़ाघर, केव गार्डन, सडिय़ाताल झरना व हिमालय दर्शन में सैलानियों का जमघट लगा रहा। वीकेंड के चलते नैनीताल में सैलानियों की संख्या में इजाफा हो रहा है। वाहनों की आमद बढ़ जाने से यहां पुन: सडक़ों में जाम लग रहा है। इस बीच नगर में अब धीरे-धीरे पर्यटकों की संख्या बढऩे से काफी रौनक दिख रही है। इसके अलावा नगर के बारापत्थर, किलबरी, हिमालय दर्शन, स्नोव्यू, टिफिन टॉप, सरिताताल, हनुमानगढ़ी के अलावा समीपवर्ती गागर, मुक्तेश्वर, श्यामखेत, रामगढ़, धारी, कैंची, सातताल, नौकुचियाताल, भीमताल व भवाली आदि दर्शनीय स्थलों में पर्यटकों की भीड़भाड़ से रौनक बनी रही। पर्यटकों ने माल रोड समेत तल्लीताल व मल्लीताल बाजारों के साथ ही तिब्बती, भोटिया, पालिका बाजारों से खूब खरीददारी की। इसके अलावा उन्होंने पंत पार्क से लेकर गुरुद्वारे तक लगी अस्थाई दुकानों से भी खूब खरीददारी की। दूसरी ओर अब आने वाले दिनों में नगर में और अधिक भीड़ बनने की पूरी संभावना है। जीआईसी स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के प्रभारी प्रताप सिंह बिष्ट ने बताया कि अधिकतम तापमान 23 तथा न्यूनतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। नैनी झील नियंत्रण कक्ष के प्रभारी रमेश सिंह गैड़ा की मानें तो रविवार को जलस्तर दो फीट तीन इंच दर्ज किया गया।

About saket aggarwal

Check Also

रुद्रपुर : पाश्चात्य संस्कृति से भिड़ी भारतीय संस्कृति

रुद्रपुर। पाश्चात्य सभ्यता की नुमाइश कर रही एक महिला की तारीफ करना भारतीय सभ्यता की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *